नई दिल्ली: गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थानीय निकाय चुनाव कई मायनों में ऐतिहासिक महत्व का होगा और लंबे समय से अपेक्षित जमीनी लोकतंत्र फिर से स्थापित होगा.Also Read - Amit Shah ने Pulwama terror attack में शहीद 40 CRPF जवानों को दी श्रद्धांजलि

Also Read - अमित शाह ने बुलेट प्रूफ ग्लास हटवाने के बाद दिया भाषण, पाक के बजाय, जम्मू-कश्मीर के युवाओं से बात करेंगे

एक बयान में गृह मंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार पंचायत और शहरी स्थानीय निकाय चुनाव सुचारू रूप से संपन्न कराने के लिए केंद्रीय बलों सहित सभी संभावित सहायता मुहैया कराएगी. उन्होंने बताया कि इन स्थानीय निकाय चुनावों का कई मायनों में ऐतिहासिक महत्व होगा. जम्मू कश्मीर में स्थानीय निकायों के चुनाव से राज्य में लंबे समय से अपेक्षित जमीनी स्तरीय लोकतंत्र फिर से स्थापित होगा. जम्मू कश्मीर में स्थानीय निकाय के चुनाव अगले महीने होंगे. Also Read - गृह मंत्री अमित शाह ने आगे बढ़ाया अपना जम्मू-कश्मीर दौरा, पुलवामा में CRPF के साथ बिताएंगे रात

जम्मू-कश्मीर: पंचायत चुनाव पर सरकार की तैयारी, कैंडिडेट को 10 लाख तक का मिल सकता है इंश्योरेंस

चुनाव लड़ने से पीडीपी व नेशनल कांफ्रेंस का इनकार

बता दें कि जम्मू कश्मीर में शहरी स्थानीय निकाय और पंचायत चुनाव में हिस्सा लेने से यहां की दो बड़ी पार्टियों पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस ने इनकार कर दिया है. आर्टिकल 35A के मुद्दे पर ज्यादातर पार्टियां पंचायत चुनाव से दूरी बनाने का ऐलान किया है. इसमें नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC), पीपल डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP), सीपीएम (CPM) भी हैं. इस मुद्दे पर नेशनल कॉन्फ्रेंस ने तो विधानसभा और लोकसभा चुनाव का भी बहिष्कार करने की धमकी दी है. उसकी मांग है कि सरकार 35ए पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे. बहरहाल, कई दलों के बहिष्कार के बीच सरकार यहां चुनाव कराने को लेकर पूरी तरह तैयार है.