नई दिल्ली: केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय कोरोना संकट के कारण छह महीने के विराम के बाद आगामी 9 अक्टूबर से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में ‘हुनर हाट’ (Hunar Haat in Prayagraj) का आयोजन करेगा. इसकी थीम “लोकल से ग्लोबल” (Local Se Global) होगी और स्वदेशी खिलौने इसके मुख्य आकर्षण होंगे. प्रयागराज के साथ ही मंत्रालय के मुताबिक कि आने वाले दिनों में “हुनर हाट” (Hunar Haat in India) का आयोजन जयपुर (23 अक्टूबर से 1 नवम्बर), चंडीगढ़ (7 से 15 नवम्बर), इंदौर (21 से 29 नवम्बर), मुंबई (22 से 31 दिसंबर 2020), हैदराबाद (8 से 17 जनवरी 2021), लखनऊ (23 से 31 जनवरी 2021), दिल्ली (इंडिया गेट- 13 से 21 फरवरी 2021), रांची (20 से 28 फरवरी 2021), कोटा (5 मार्च से 14 मार्च 2021) और कई अन्य शहरों में होगा. Also Read - हजरत निजामुद्दीन दरगाह पहुंचे मुख़्तार अब्बास नक़वी, कहा- लोगों ने धार्मिक स्थलों पर सावधानी बरती, दुनिया को दिया संदेश

अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘मन की बात’ कार्यक्रम में स्वदेशी खिलौनों को प्रोत्साहित करने के आह्वान ने भारत के स्वदेशी खिलौना उद्योग में नई जान डाल दी है. उन्होंने कहा, ‘‘देश का हर क्षेत्र, लकड़ी, ब्रास, बांस, शीशे, कपडे, कागज़, मिटटी के खिलौने बनाने वाले “हुनर के उस्तादों” से भरपूर है. इनके इस शानदार स्वदेशी उत्पादन को मौका-मार्केट मुहैया कराने के लिए “हुनर हाट” बड़ा मंच देने जा रहा है.’’ नकवी ने इस बात पर जोर दिया, ‘‘ इस “हुनर हाट” में 30 प्रतिशत से ज्यादा स्टाल स्वदेशी खिलौनों के कारीगरों के लिए होंगे. स्वदेशी खिलौनों की आकर्षक पैकेजिंग के लिए भी विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से दस्तकारों-शिल्पकारों की मदद की जाएगी.’’ उनके मुताबिक, पिछले पांच वर्षों में 5 लाख से ज्यादा भारतीय दस्तकारों, शिल्पकारों को रोजगार-रोजगार के अवसर प्रदान करने वाले “हुनर हाट” के दुर्लभ हस्तनिर्मित स्वदेशी सामान लोगों में काफी लोकप्रिय हुए हैं. Also Read - Haj 2020: सऊदी अरब ने कहा- इस बार हज के लिए न आएं भारतीय, मोदी सरकार लौटाएगी पैसा

प्रयागराज में ‘हुनर हाट’ नौ अक्टूबर से 18 अक्टूबर तक चलेगा. कोरोना संकट के करण गत छह महीनों में ‘हुनर हाट’ आयोजित नहीं हो पाया. पिछला ‘हुनर हाट’ मार्च में रांची में आयोजित हुआ था. उससे पहले मंत्रालय ने फरवरी महीने में दिल्ली में इंडिया गेट के निकट ‘हुनर हाट’ लगाया था जिसमें प्रधानमंत्री मोदी खुद पहुंचे थे और लिट्टी-चोखा खाया था एवं कुल्हड़ वाली चाय पी थी. केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा अभी तक देश के विभिन्न भागों में दो दर्जन से अधिक “हुनर हाट” का आयोजन किया जा चुका है. Also Read - ‘लोकल से ग्लोबल’ थीम पर आधारित होगा ‘हुनर हाट’, सितंबर में किया जाएगा आयोजन : नकवी