नई दिल्‍ली: राष्‍ट्रीय राजधानी के शाहीन बाग इलाके में पिछले 100 दिनों से चल रहे सीएए के विरोध में धरना प्रदर्शन प्रदर्शन कर रहे लोगों को हटा दिया गया. Coronavirus के मद्देजनर की गई दिल्‍ली पुलिस की कार्रवाई से शाहीनबाग इलाके के स्‍थानीय लोग इतने खुश हुए कि उन्‍होंने साउथ डीसीपी आरपी मीणा और अन्‍य पुलिसकर्मियों को फूल भेट किए. Also Read - जब मोनालिसा ने लाइब्रेरी में फोन करके दिया बर्गर का ऑर्डर, देखें मज़ेदार वीडियो

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने Coronavirus के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में पूरी लॉकाडाउन के बीच शाहीन बाग के धरना विरोध प्रदर्शन स्थल को साफ़ कर दिया गया. Also Read - इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पूछा- वकीलों के लिए किसी ने कुछ किया या नहीं, वो भी मुश्किल में हैं

दिल्ली के पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि जब हम जामिया, शाहीन बाग और अन्य क्षेत्रों में आज विरोध स्थलों को खाली करवा रहे थे, तब कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया और कुछ को हिरासत में लिया गया तो हमें थोड़ी कठिनाई का सामना किया. हालांकि, मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि लोगों द्वारा कोई प्रतिरोध नहीं दिखाया गया था.

बता दें कोरोना वायरस खतरे के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन पर बैठे लोगों को मंगलवार सुबह वहां से हटा दिया. महिला प्रदर्शनकारी सीएए के खिलाफ तीन माह से भी ज्यादा वक्त से शाहीन बाग में धरने पर बैठी हैं.

पुलिस उपायुक्त (दक्षिण-पूर्व) आर पी मीणा ने कहा कि कोरोना वायरस प्रकोप के कारण लॉकडाउन (बंद) लागू किए जाने के बाद शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल को खाली करने का अनुरोध किया गया था. अधिकारी के अनुसार जब प्रदर्शनकारियों ने जगह खाली करने से इनकार कर दिया तो कार्रवाई की गई और प्रदर्शन स्थल खाली करा लिया गया. (इनपुट एजेंसी)