नोएडा: नोएडा के सेक्टर 123 में बन रहे डंपिंग ग्राउंड के विरोध के मद्देनजर समाधान निकालने के लिए आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में कोई सहमति नहीं बन सकी. बैठक के बाद कूड़ा संघर्ष समिति के अध्यक्ष सुखबीर पहलवान ने आरोप लगाया कि नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी अपनी बात पर अड़े हुए हैं. पहलवान ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गाजियाबाद में कूड़ा संघर्ष समिति के लोगों से मुलाकात के दौरान यह बात कही थी कि कूड़ा घर आबादी से 2 किलोमीटर दूर बनाया जाएगा. लेकिन जहां पर डंपिंग ग्राउंड बनाया जा रहा है वह आबादी से मात्र 100 मीटर दूर है.

इस बैठक में केंद्रीय मंत्री डॉक्टर महेश शर्मा, नोएडा से भाजपा विधायक पंकज सिंह, नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी आलोक टंडन और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ अजय पाल के साथ शहर के विभिन्न रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष, जनप्रतिनिधि व विभिन्न पार्टियों के नेता शामिल थे.

बैठक में डंपिंग ग्राउंड को लेकर आपसी सहमति से कोई समाधान नहीं निकलता देख संघर्ष समिति के पदाधिकारी व नोएडा के लोगों ने डॉक्टर महेश शर्मा के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. उनका आरोप था कि शर्मा जनहित की बातों को दरकिनार कर आबादी के बीचों-बीच कूड़ाघर बनवाने पर आमादा हैं.

कूड़ा संघर्ष समिति के पदाधिकारी ओमवीर यादव ने कहा कि अगर कूड़ाघर सेक्टर 123 में बनता है तो आगामी लोकसभा चुनाव में महेश शर्मा का विरोध किया जाएगा. इस बीच कूड़ा संघर्ष समिति के अध्यक्ष सुखबीर पहलवान ने आंदोलन जारी रखने की घोषणा की है. नोएडा प्राधिकरण द्वारा सेक्टर 123 में डंपिंग ग्राउंड बनाने की योजना के विरोध में लोग 15 दिन से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं.

सोमवार को संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गाजियाबाद में मिलकर डंपिंग ग्राउंड के कार्य को रुकवाने का आग्रह किया था. उसके बाद ही मंगलवार को यह उच्च स्तरीय बैठक रखी गई थी.

(इनपुट: एजेंसी)