नई दिल्ली: पूरा देश इस समय कोरोना वायरस की चपेट में है. इस महामारी ने धीरे धीरे अपने पांव पसारने शुरू कर दिए है. अब तक इस भयानक बिमारी से हज़ारों की संख्या में लोग संक्रमित हैं वहीं 300 से ज़्यादा लोगों की जान गई है. कोरोना के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए सरकार अपनी तमाम कोशिशें कर रही हैं. इन प्रयासों में जहां एक तरफ कोरोना को मात देने की बात होती है वहीं दूसरी तरफ देश की जनता की उम्मीदों को ज़िंदा रखने की कोशिश भी होती है. Also Read - Viral Video: महिला ने नहीं पहना मास्क, थूकने की कोशिश की, प्लेन से जबरन उतारा गया...

जब से इस महामारी ने देश में अपना घर बनाया है तब से प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम कोरोना पर 3 संदेश दिए हैं. इन संदेशों ने पूरे देश को एकजुट किया है और लोगों के अंदर से भय का नाश किया है. यहां पढ़िए क्रम से वो तीन संदेश: Also Read - Covid 19 in India Update: कोरोना से 24 घंटे में 717 लोगों की मौत, 54 हजार नए मामले आए सामने

पहला: प्रधानमंत्री ने 19 मार्च को देश को संबोधित किया था और 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने की बात कही थी. इस दिन देशभर में सबकुछ बंद रहा. शाम को लोगों ने घरों के अंदर से ही कोरोना फाइटर्स का ताली और थाली बजाकर आभार जताया था. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन पर कांग्रेस का हमला - 'देश को कोरोना का ठोस समाधान चाहिए, कोरा भाषण नहीं'

दूसरा: मोदी ने 24 मार्च को संबोधित किया और कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था. उन्होंने कहा था कि कोरोना की चेन तोड़ने के लिए लोग घरों में रहने की लक्ष्मण रेखा का पालन करें.

तीसरा: प्रधानमंत्री मोदी ने 3 अप्रैल को एक वीडियो संदेश जारी किया था. इसमें लोगों से 5 अप्रैल की रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर दीये, मोमबत्ती और मोबाइल की लाइट जलाकर एकजुटता दिखाने की अपील की थी.

इन तीन संदेशों का पालन पूरे देश ने किया और मंगलवार यानी आज 10 बजे पीएम मोदी एक बार फिर देश को संबोधित करेंगे. 21 दिन के लॉकडाउन की समाप्ति के दिन पीएम मोदी इसे बढ़ाने की बात कर सकते हैं.