तिरुवनंतपुरम: 201 देशों में बसे 3,53,468 केरलवासियों ने वापसी के लिए नोरका-रूट्स पोर्टल पर पंजीकरण करवाया है, ताकि वे जब लॉकडाउन हटे और हवाईअड्डे खुले तो अपने वतन वापस आ सकें. पंजीकरण करने वाले लोगों में अधिकांश लोग मध्य-पूर्व के देशों से हैं. इसमें संयुक्त अरब अमीरात से 1,53,660, सऊदी अरब से 47,268, यूके से 2,112, यूएसए से 1,895 और यूक्रेन से 1,864 लोग शामिल हैं. Also Read - Unlock 1.0: राज्यों ने लॉकडाउन में और अधिक छूट देते हुए अलग-अलग दिशानिर्देश जारी किए; आज से चलेंगी 200 विशेष ट्रेनें

केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने कहा कि “हमने यात्रा की पर्याप्त व्यवस्था करने के लिए केंद्र और संभावित भारतीय दूतावासों को संभावित रिटर्न की अंतिम सूची पेश करने का फैसला किया है.” विजयन ने कहा कि अन्य राज्यों में रह रहे 94,483 केरलवासियों ने भी लौटने के लिए पंजीकरण कराया है. इसमें कर्नाटक से 30,570, तमिलनाडु से 29,181 और महाराष्ट्र से 13,113 लोग शामिल हैं. Also Read - यूपी: कोरोना मरीजों के लिए एक लाख बेड तैयार, इतनी बड़ी तैयारी करने वाला देश का पहला राज्य

अच्छी खबर यह है कि इसमें छात्रों, गर्भवती महिलाओं और वरिष्ठ नागरिकों को प्राथमिकता दी जाएगी. पंजीकरण डब्लूडब्लूडब्लूडॉटनोरकारूट्सडॉट्ओआरजी पर किया गया है, जो राज्य सरकार द्वारा संचालित प्रवासियों की आधिकारिक संस्था है. केंद्र के बाद, यह सुविधा को केरल सरकार द्वारा शुरू किया गया है. लगभग 25 लाख अनिवासी केरलवासियों में से 90 प्रतिशत मध्य-पूर्व के देशों में हैं. हवाई सेवाओं के फिर से संचालन के बाद 35 लाख लोगों के लौटने की संभावना है. Also Read - लॉकडाउन बढ़ने की बात सुन महिला ने खाया ज़हर, ससुराल से मायके न जा पाने से थी परेशान