अहमदाबाद: गुजरात के अहमदाबाद और सूरत स्टेशनों से शनिवार की रात को उत्तर प्रदेश और ओडिशा के लिए तीन विशेष रेलगाड़ियां रवाना होंगी. हर रेलगाड़ी में 1200 प्रवासी श्रमिक होंगे. यह जानकारी एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के सचिव अश्वनी कुमार ने बताया कि दो रेलगाड़ियां अहमदाबाद से आगरा के लिए रवाना होंगी वहीं तीसरी रेलगाड़ी सूरत से ओडिशा के बहरामपुर के लिए रवाना होगी. उन्होंने कहा कि राजस्थान, ओडिशा और मध्य प्रदेश के कई प्रवासियों को बसों से अपने गृह राज्य जाने के लिए अनुमति दे दी गई है. Also Read - भोजपुरी एक्ट्रेस मोनालिसा को आई बचपन की याद, दो चोटी बांधी और बोली- जो भी है....

इस तरह के लोग 079-23251900 पर फोन कर अपना ब्यौर साझा कर सकते हैं ताकि उन्हें यात्रा पास मिल सके. केंद्र सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन के बीच फंसे मजदूरों, पर्यटकों और छात्रों को स्थानीय अधिकारियों की अनुमति पर एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने की अनुमति दे दी है. जो लोग अपने गृह राज्य लौटना चाहते हैं, उन्हें हेल्पलाइन संख्या 1077 पर फोन करना होगा और जिला प्रशासन उन्हें पंजीकृत करेगा लेकिन यात्रियों को खुद ही टिकट खरीदना होगा. Also Read - लॉकडाउन में इस बात से बहुत परेशान हो गए अमिताभ बच्चन, फैंस से मांगी माफी

उन्होंने कहा, ‘‘एक रेलगाड़ी सूरत से ओडिशा के बेहरामपुर के लिए रवाना होगी और अहमदाबाद से दो रेलगाड़ियां शनिवार को आगरा के लिए रवाना होंगी. हर रेलगाड़ी में 1200 यात्रियों की क्षमता है और जिन लोगों ने अपने नाम पंजीकृत कराए हैं उन्हें ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी.’’ कुमार ने कहा कि राज्य सरकार ने आठ आईएएस और आठ आईपीएस अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है जो प्रवासी श्रमिकों की आवाजाही के लिए दूसरे राज्यों की सरकारों के साथ समन्वय स्थापित करेंगे. Also Read - यूपी: श्रमिक ट्रेनों में भी मौत के मुंह में समा रहे मजदूर, एक ही दिन में तीन ट्रेनों में 6 की मौत

इस बीच राज्य सरकार ने शनिवार को अतिरिक्त मुख्य सचिव विपुल मित्रा को रेलगाड़ियों से अपने घर लौटने के लिए इच्छुक प्रवासी श्रमिकों, छात्रों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों और अन्य की यात्रा के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अन्य राज्यों में फंसे छात्रों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों और श्रमिकों को वापस लाने के लिए भी प्रबंध किए हैं.