नई दिल्ली: बिहार में जदयू के बाद राजग गठबंधन में शामिल एक और दल ने सरकार पर हमला किया है. लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने शुक्रवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति कानून को लेकर आंदोलन करने की चेतावनी दी. लोजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान ने एक प्रेसवार्ता में कहा कि एससी/एसटी समुदायों के लोग भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार से छले गए महसूस कर रहे हैं क्योंकि सरकार ने अब तक अध्यादेश लाकर सुप्रीम कोर्ट के 20 मार्च के फैसले को नहीं पलटा. Also Read - नीतीश राज को लालू यादव ने किया परिभाषित, इन 18 नामों के जरिए की शासन की व्याख्या

Also Read - नीतीश की रैली में कम भीड़ होने पर विपक्ष ने किया कटाक्ष, तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा...

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से एससी/एसटी (अत्याचार निरोध) कानून को कमजोर कर दिया गया. उन्होंने फैसला देने वाले न्यायमूर्ति ए. के. गोयल को राष्ट्रीय हरित अधिकरण के अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की. Also Read - HAPPY BIRTHDAY: 69 साल के हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं को आज करेंगे संबोधित

राफेल डील पर राहुल का एक और हमला, कहा एक बिजनेसमैन को मिला 1 लाख 30 हजार करोड़ का फायदा

चिराग पासवान ने कहा, “हम अपना धैर्य खोते जा रहे हैं क्योंकि कानून को पलटने के लिए अब तक कोई कदम नहीं उठाया गया है. दो अप्रैल को पूरे देश में आंदोलन हुआ और कुछ संगठनों ने नौ अगस्त को आंदोलन करने की घोषणा की है. हम चाहते हैं कि सरकार उससे पहले कानून को पलटने के लिए एक अध्यादेश लाए. अगर ऐसा नहीं हुआ तो हमारी दलित सेना सड़कों पर उतरेगी.”

आठ दिन बाद खत्म हुई ट्रक हड़ताल, मांगों पर विचार के लिए बनेगी कमेटी

चिराग ने हालांकि यह भी जोड़ा कि हमें प्रधानमंत्री पर पूरा भरोसा है. उन्होंने विश्वास दिलाया है कि एससी-एसटी एक्ट में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा.