नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के 6 चरणों के चुनाव के बाद अब आखिरी दौर के मतदान के लिए नेताओं ने कमर कस ली है. इस चरण में 7 राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश की 59 लोकसभा सीटों के लिए मतदान होना है. इसके तहत बिहार और मध्यप्रदेश में 8-8, झारखंड की 3, पंजाब और उत्तर प्रदेश में 13-13, पश्चिम बंगाल में 9, हिमाचल प्रदेश की 4 और चंडीगढ़ लोकसभा सीटों के लिए मतदान होंगे. इन सभी संसदीय सीटों पर अपनी पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए सभी दलों के स्टार प्रचारकों की दौड़-भाग सोमवार से बढ़ जाएगी. खासकर, उत्तर प्रदेश में जहां भाजपा को सपा-बसपा-रालोद के महागठबंधन से कड़ी टक्कर मिल रही है, आखिरी दौर का चुनाव रोमांचक होने वाला है.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

पीएम मोदी और राहुल गांधी की 3 रैलियां
आखिरी दौर के मतदान के चुनाव प्रचार के क्रम में सोमवार को पीएम मोदी 3 रैलियों को संबोधित करने वाले हैं. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी 2 चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे. पीएम मोदी की सोमवार को मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश और पंजाब में सभाएं होनी है. मोदी एमपी के रतलाम, हिमाचल के सोलन और पंजाब के बठिंडा में जनसभाओं को संबोधित करेंगे. उधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सोमवार को पंजाब में ही दो रैलियां होंगी. राहुल गांधी फतेहगढ़ साहिब और होशियारपुर में चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे. इन दोनों के अलावा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पश्चिम बंगाल में 3 जनसभाओं में शिरकत करेंगे. शाह की सोमवार को कोलकाता, जादवपुर और उत्तरी 24 परगना में रैलियां होनी हैं.

पूर्वांचल में माया-अखिलेश की 8 रैलियां
उत्तर प्रदेश में आखिरी चरण के मतदान को लेकर सियासी सरगर्मी सबसे ज्यादा है. खासकर इस दौर में पूर्वांचल के इलाके में चुनाव होना है, जहां 2014 में भाजपा ने सबसे ज्यादा सीटों पर जीत हासिल की थी. इसके मद्देनजर बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने आखिरी दौर के चुनाव के लिए खास रणनीति बनाई है. इन दोनों नेताओं ने हालांकि पिछले 6 चरणों के चुनाव में भी एक साथ कई रैलियां की हैं, लेकिन सातवें चरण के मतदान से पहले अगले 5 दिनों में मायावती और अखिलेश यादव की एक साथ 8 रैलियां होनी हैं. पूर्वांचल में भाजपा के व्यापक जनाधार की काट के लिए सपा-बसपा गठबंधन सभी सीटों के लिए रणनीति बनाकर काम कर रहा है.