नई दिल्ली: 2019 के लोकसभा चुनाव में तमिलनाडु की 39 और पुड्डीचेरी की एक सीट पर द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) 20 और उसकी सहयोगी पार्टियां 20 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. आगामी लोकसभा चुनावों के लिए डीएमके ने मंगलवार को सीटों का एलान किया. डीएमके प्रेसिडेंट एमके स्टालिन ने बताया कि 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन के सहयोगियों के साथ सीटों पर समझौता हो गया है. Also Read - COVID-19: रणदीप सिंह सुरजेवाला और हरसिमरत कौर बादल कोरोना टेस्‍ट में पॉजिटिव

डीएमके 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी वहीं कांग्रेस 10 सीटों पर चुनाव लड़ेगी इसमें पुड्डीचेरी की सीट भी शामिल है. मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और वीसीके दो सीटों पर चुनाव लड़ेगी. MDMK, IUML, IJK और KMDK एक-एक सीट पर चुनाव लड़ेंगी. वहीं MDMK को एक राज्यसभा सीट ऑफर की गई है. Also Read - WB Assembly elections 2021: कांग्रेस पार्टी को बंगाल में बड़ा झटका, उम्मीदवार रेजाउल हक की कोरोना से मौत

कौन सी पार्टी किसी सीट से चुनाव लड़ेगी ये तय करने के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है. डीएमके के दुरई मुरुगन गठबंधन के नेताओं से बात करेंगे. डीएमके के प्रेसिडेंट एमके स्टालिन ने बताया कि वह चुनाव प्रचार के लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ मंच साझा करेंगे. 13 मार्च को होने वाली कांग्रेस की रैली में स्टालिन राहुल गांधी के साथ मंच साझा करेंगे.

तीसरे दौर की वार्ता के बाद, एमडीएमके महासचिव वाइको ने स्टालिन के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए. एमडीएमके को एक लोकसभा सीट और एक राज्यसभा सीट दी गई है, उन्होंने कहा कि वार्ता संतोषजनक थी. एमडीएमके 21 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में द्रमुक के लिए काम करेगा.

बता दें कि तमिलनाडु में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक और भाजपा के बीच आगामी लोकसभा चुनावों के पहले ही गठबंधन हो चुका है. समझौते के तहत बीजेपी पांच सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी. गठबंधन के एलान के दौरान बीजेपी के नेता पीयूष गोयल ने बताया था कि हम तमिलनाडु की 21 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में एआईडीएमके का समर्थन करेंगे. हम राज्य में ओपीएस और ईपीएस के नेतृत्व में और केंद्र में मोदी जी के नेतृत्व में चुनाव लड़ने के लिए सहमत हुए हैं.