नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर छिटपुट घटनाओं के बीच सोमवार को शाम छह बजे तक 57.58 प्रतिशत मतदान हुआ. सबसे अधिक 63.00 प्रतिशत मतदान खीरी और झांसी में और सबसे कम 50.87 प्रतिशत मतदान शाहजहांपुर में दर्ज किया गया. मुख्य निर्वाचन अधिकारी वेंकटेश्वर लू ने पत्रकारों को बताया कि जो मतदाता मतदान केंद्रों पर छह बजे तक पहुंच चुके थे, उन्हें भी वोट डालने का अवसर दिया गया. इसके चलते मतदान में एक-दो प्रतिशत तक की वृद्धि हो सकती है. Also Read - कमाल है: उप्र में अनुमति के बिना दाढ़ी रखने पर मुस्लिम पुलिसकर्मी निलंबित

Also Read - पहल: उप्र के इस जिले ने पेश की मिसाल, घर की नेमप्लेट पर मां, पत्नी या बेटी का नाम

मुख्य निर्वाचन अधिकारी बताया कि शाम छह बजे तक शाहजहांपुर (सु़) में 50.87 प्रतिशत, खीरी में 63 प्रतिशत, हरदोई (सु़) में 57.49, मिश्रिख (सु़) में 56.20, उन्नाव में 59.33, फरूखाबाद में 59.37, इटावा (सु़) में 56.46, कन्नौज में 59.48, कानपुर में 51.09, अकबरपुर में 55.80, जालौन (सु़) में 56.58, झांसी में 63.00 और हमीरपुर में 60.91 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. Also Read - सात महीने बाद सिर्फ एक दिन के लिए खुला 'बांके बिहारी मंदिर', फिर से बंद किए गए कपाट, ये है बड़ी वजह

लू के अनुसार, शाहजहांपुर में कई स्थानों पर ईवीएम खराबी की वजह से मतदान रोका गया. इसकी जांच हो रही है और अगर अधिकारी जरूरी समझेंगे तो यहां कुछ मतदान केंद्रों पर दोबारा मतदान कराया जा सकता है. इसके बारे में वहां के अधिकारी राजनीतिक दलों के साथ विचार-विमर्श कर मंगलवार को कोई निर्णय लेंगे. लू ने बताया कि चौथे चरण में मतदान शुरू होने के बाद 152 ईवीएम व 855 वीवीपैट खराब होने की शिकायतें मिलीं, जिन्हें बदलकर मतदान कराया गया. मॉक पोल के दौरान 178 ईवीएम व 350 वीवीपैट बदले गए.

राजनाथ ने पूछा- वाजपेयी जी इंदिरा की तारीफ कर सकते हैं तो कांग्रेस मोदी की क्यों नहीं?

लू ने बताया कि चौथे चरण के दौरान उन्नाव, हरदोई, झांसी, हमीरपुर, ललितपुर, कन्नौज, कानपुर देहात, फरूखाबाद, खीरी में कई बूथों पर चुनाव के बहिष्कार की सूचनाएं मिली हैं. इन स्थानों पर मतदाताओं ने नागरिक सुविधाओं के अभाव में वोट डालने से परहेज किया.

समाजवादी पार्टी (सपा) ने पुलिस-प्रशासन पर आरोप लगाया है कि वह कन्नौज में सपा समर्थक मतदाताओं को वोट डालने से रोक रहा है. सपा समर्थक ब्लॉक प्रमुखों, बीडीसी सदस्यों, ग्राम प्रधानों का उत्पीड़न भी किया जा रहा है. इस बाबत पूछने पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सपा की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत का संज्ञान लिया गया है, और इस बारे में प्रमुख सचिव गृह, जिलाधिकारी और पुलिस से रिपोर्ट मांगी गई है.

कश्मीर को हिन्दुस्तान से अलग करना चाहते हैं राहुल गांधी: अमित शाह

चौथे चरण में एक करोड़ 30 लाख 83 हजार 421 पुरुष तथा एक करोड़ 10 लाख 22 हजार 629 महिलाओं समेत कुल दो करोड़ 41 लाख 784 मतदानओं को मताधिकार का अवसर देने के लिए 17011 मतदान केन्द्र तथा 27516 मतदेय स्थल बनाए गए थे. इनमें से 4014 मतदेय स्थल संवेदनशील की श्रेणी में रखे गए थे.

मतदान को स्वतंत्र और निष्पक्ष तरीके से सम्पन्न कराने के लिए 3459 माइक्रो आब्जर्वर, 2298 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 293 जोनल मजिस्ट्रेट, 308 स्टैटिक मजिस्ट्रेट, 13 सामान्य प्रेक्षक, सात पुलिस प्रेक्षक, 13 व्यय प्रेक्षक तथा 67 सहायक व्यय प्रेक्षक तैनात किए गए थे.

चौथे चरण में प्रदेश में नामचीन राजनीतिक दिग्गजों का राजनीति भविष्य दांव पर है. इनमें कानपुर में पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल व राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी, उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज व पूर्व सांसद कांग्रेस की अनु टंडन, कन्नौज से समाजवादी पार्टी की सांसद डिंपल यादव, फरूखाबाद से पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद, धौरहरा से पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद और इटावा से पूर्व केंद्रीय मंत्री रामशंकर कठेरिया शामिल हैं.