नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने रविवार को लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी, जिसके मुताबिक वाराणसी में मतदान आखिरी चरण में 19 मई को होगा. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी सहित कई अन्य हाईप्रोफाइल सीटों पर छह मई को वोट डाले जाएंगे. वाराणसी सीट का प्रतिनिधित्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहे हैं. लखनऊ में भी मतदान छह मई को होगा, जहां से 2014 में गृह मंत्री राजनाथ सिंह निर्वाचित हुए थे. वैसे ही हाजीपुर लोकसभा सीट के लिए मतदान भी छह मई को होगा जिसका प्रतिनिधित्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान करते हैं.हालांकि उन्होंनें इस बार चुनाव नहीं लड़ने का एलान किया है.

चुनाव की तारीखों का एलान, पीएम मोदी ने मांगा जनता का आशीर्वाद, कांग्रेस ने की एनडीए को हराने की अपील

वडोदरा और पुरी में मतदान 23 अप्रैल को होगा. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी वाराणसी के अलावा वडोदरा से भी निर्वाचित हुए थे. ऐसी अटकलें हैं कि इस बार पुरी वह दूसरी सीट होगी, जहां से प्रधानमंत्री 2019 में चुनाव में लड़ सकते हैं. हालांकि, भाजपा की ओर से इस पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की सीट गांधीनगर पर मतदान 23 अप्रैल को होगा, उसी दिन पीलीभीत के लिए मतदान होगा जिसका प्रतिनिधित्व मेनका गांधी कर रही हैं. मेनका गांधी के पुत्र वरुण गांधी की संसदीय सीट सुल्तानपुर पर मतदान 12 मई को होगा.

मैनपुरी पर भी मतदान 23 अप्रैल को होगा, जो उन दो सीटों में एक है जहां से 2014 में मुलायम सिंह यादव निर्वाचित हुए थे. जबकि आजमगढ़ सीट जिसे मुलायम ने रखी थी वहां मतदान 12 मई को होगा. कन्नौज में मतदान 29 अप्रैल को होगा, जहां से मुलायम की बहू एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव 2014 में निर्वाचित हुई थीं. भाजपा की तेजतर्रार नेता उमा भारती की संसदीय सीट झांसी और भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी की संसदीय सीट कानपुर में मतदान 29 अप्रैल को होगा. वहीं विदिशा, जहां से 2014 में भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज निर्वाचित हुई थीं वहां मतदान 12 मई को होगी.

आचार संहिता लागू होते ही रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को छोड़नी पड़ी स्पेशल फ्लाइट

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुना सीट के लिए मतदान 12 मई को होगा. कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी की अमेठी सीट और सोनिया गांधी की रायबरेली सीट के लिए मतदान छह मई को होगा. अमृतसर में मतदान 19 मई को होगा, जहां से अरुण जेटली 2014 में लोकसभा चुनाव हार गए थे. एक महीने से अधिक समय तक चलने वाले चुनाव कार्यक्रम में पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को, जबकि आखिरी एवं सातवां चरण का मतदान 19 मई को होगा. मतगणना 23 मई को होगी.