Lok Sabha Election 2019: आज पूरे देश में लोकसभा चुनाव नतीजों की चर्चा है. पर क्‍या आप जानते हैं कि वोटों की गिनती कैसे होती है? आखिर इसकी पूरी प्रक्रिया क्‍या है? Also Read - अमरिंदर ने आठ सलाहकार समूहों का किया गठन, सिद्धू को नहीं किया शामिल

– मतगणना में पहले रिटर्निंग ऑफिसर शपथ लेते हैं. वे और उनके सहयोगी सबके सामने वोटों की गोपनीयता की शपथ लेते हैं. इसके बाद सभी ईवीएम की जांच की जाती है, जिससे ये पता चल सके कि उनके साथ कोई छेड़छाड़ की गई है या नहीं. Also Read - विभाग बदले जाने पर गुस्से में नवजोत सिंह सिद्धू, कहा- मुझे निशाना बनाया जा रहा

– इस दौरान सभी राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों को अपने काउंटिंग एजेंट्स के साथ मतगणना केंद्र में मौजूद रहने का अधिकार होता है. वे वोटों की गिनती को लाइव देख सकते हैं. Also Read - कैबिनेट मीटिंग में शामिल नहीं हुए सिद्धू, बोले- मुझे हल्के में नहीं लिया जा सकता

– EVM पर गिनती आरंभ करने से पूर्व पोस्टल मतपत्रों की गिनती की जाती है. इसके बाद ईवीएम पर वोटों की गिनती शुरू होती है.

– मतदान केंद्रों के हिसाब से ईवीएम को एक क्रम में रखा जाता है. इसके बाद ईवीएम को एक के बाद एक ऑन किया जाता है. कुल वोटों की गिनती होती है. फिर अलग-अलग उम्मीदवारों को मिले वोटों की गिनती होती है.

– इसके बाद सभी मतदान केंद्रों की ईवीएम के आंकड़ों को जोड़ा जाता है. अंत में वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाता है.

– किसी तरह के विवाद की स्थिति में रिटर्निंग ऑफिसर, चुनाव आयोग को सूचित करता है. अगर बिना किसी शिकायत के मतगणना पूरी होती है तो रिटर्निंग ऑफिसर नतीजों की घोषणा करता है.

Lok Sabha Election 2019 Results
दो माह से अधिक समय तक चले लोकसभा चुनाव के नतीजे आज आएंगे. हर कोई जल्दी से जल्दी और विश्वसनीय नतीजें हासिल करने की कोशिश करता है. तमाम वेबसाइट्स और चैनलों के होने के बावजूद आपको एक ही जगह सबसे सटीक और विश्वसनीय नतीजे मिल सकते हैं. वो है चुनाव आयोग की वेबसाइट.

आप results.eci.gov.in पर लॉग इन कर अपने क्षेत्र के रिजल्ट, रुझान और ट्रेंड्स पता कर सकते हैं. सारी दुनिया चुनाव आयोग के ही नतीजे को भरोसेमंद मानती है. यहां पर गलत साबित होने की बिल्कुल गुंजाइश नहीं है.