नई दिल्ली: भाजपा ने नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में 2019 के लोकसभा चुनाव मैदान में उतरने का औपाचारिक ऐलान करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं को छह सूत्रीय चुनावी मंत्र दिया है और चुनावी एजेंडे को मोदी के निर्णायक नेतृत्व, पांच साल की उपलब्धियों, मतदाताओं से सघन सम्पर्क, संगठन शक्ति के भरपूर उपयोग, विपक्ष के दुष्प्रचार का आक्रामक जवाब और संवेदनशील मुद्दों पर सुविचारित प्रतिक्रिया के इर्द गिर्द रखने को कहा है. भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया कि पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी की बैठक में कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शिका पुस्तिका दी गई है. उनसे कहा गया है कि चुनाव में एजेंडा वह हो जो हम तय करें और इसे आक्रामकता से आगे बढ़ायें.

यूपी: गठबंधन में नहीं मिली जगह, लोकसभा की 80 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा गया है कि अगले पांच महीने केवल चुनाव के महीने हैं, ऐसे में पार्टी कार्यकर्ता जो बयान दें, कार्यक्रम करें, भाषण दें… उसमें नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव कैसे जीता जाए, इस पर जोर हो. पार्टी ने जोर दिया है कि भाजपा का हर कार्यकर्ता ठान ले कि चुनाव का मुख्य मुद्दा ‘नेतृत्व’ हो तब उन्हें कोई पराजित नहीं कर सकता क्योंकि इस मुद्दे पर विपक्ष टिक नहीं सकता. देश का नेतृत्व आगामी चुनाव के बाद किसके हाथों में जाने वाला है, इस विषय को मतदाता के सामने रखें.

गठबंधन के बाद अखिलेश यादव बोले-भाजपा नेता-कार्यकर्ता अब बसपा-सपा में शामिल होने के लिए बेचैन

भाजपा ने कार्यकर्ताओं को नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पांच साल के कार्यों को भी आक्रामकता से रखने को कहा है. पार्टी कार्यकर्ताओं को इस बारे में ‘इंफार्मेटिक्स सामग्री’ उपलब्ध करायी गई है. इसमें पिछले पांच साल में तीव्र आर्थिक विकास, विकास को गरीब कल्याण से जोड़ने की पहल समेत सरकार की कल्याण योजनाओं के लाभ को जनता के बीच रखने को कहा गया है. पार्टी कार्यकर्ताओं को सामान्य बोलचाल की भाषा में सरकार की उपलब्धियों को रखने की सलाह दी गई है. भाजपा ने अगले कुछ महीने के लिये 13 कार्यक्रम बनाए हैं जिसमें सबसे महत्वपूर्ण सरकार की कल्याण योजनाओं के 22 करोड़ लाभार्थियों से सीधे सम्पर्क बनाना है.

बिहार: महागठबंधन का चेहरा कौन? राहुल गांधी या लालू प्रसाद यादव, पार्टियों में नहीं बन पा रही बात

पार्टी के पदाधिकारी ने बताया कि सभी प्रमुख कार्यकर्ताओं को 20 जनवरी तक इन लाभार्थियों की सूची उपलब्ध करा दी जाएगी. फिर शक्ति केंद्रों के माध्यम से छोटे छोटे समूह में सम्पर्क कार्य आगे बढ़ाया जाएगा. पार्टी कार्यकर्ताओं से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि हर लाभार्थी के पास भाजपा का कमल निशान और नरेन्द्र मोदी के चित्र वाली पर्ची पहुंचे. पार्टी कार्यकर्ताओं को कमल दीप जलाने और अपने अपने क्षेत्र में कमल दीपावली का आयोजन करने की सलाह दी गई है. पार्टी ने कहा है कि हर कार्यकर्ता सुनिश्चित करे कि उसके परिवार वाले, उसके मित्र सुबह साढ़े दस बजे तक मतदान कर लें.

मध्य प्रदेश: हार के बाद बीजेपी में कमजोर होने लगे हैं शिवराज सिंह चौहान!

भाजपा ने कहा है कि पार्टी का कार्यकर्ता भावुक भी है और तीन तलाक, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण जैसे मुद्दे अहम हैं.इन विषयों पर कार्यकर्ता सरकार के प्रयासों से जनता को अवगत कराएं. पार्टी कार्यकर्ताओं से कांग्रेस सहित विपक्षी दलों के दुष्प्रचार का आक्रामक तरीके से जवाब देने को भी कहा गया है. इस संबंध में आरक्षण, राफेल, औद्यागिक घरानों से जुड़े बैंकों के कर्जदारों, किसानों के विषय पर पार्टी के बारे में फैलायी जा रही अफवाहों का खंडन करने को कहा गया है. पार्टी कार्यकर्ताओं को देशभर में फैले पार्टी संगठन का सदुपयोग करने और मतदाता के साथ लगातार सम्पर्क बनाए रखने को भी कहा गया है.