नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव में कुछ ही महीने शेष रह गए हैं. ऐसे में एक तरफ तो सभी राजनीतिक दल और उनके नेता देशभर में अप्रत्यक्ष चुनावी अभियान में जुट गए हैं. वहीं दूसरी ओर, चुनावी एजेंडा बनाने के लिए जनता से सुझाव भी मांग रहे हैं. पहले जहां चुनावी एजेंडा के लिए संपर्क अभियान का सहारा लिया जाता रहा है, वहीं इस बार इसके लिए तकनीकी रास्ता अपनाया जा रहा है. यह तकनीकी रास्ता ऑनलाइन का है. देश की कई राजनीतिक पार्टियां जनता की समस्याओं को समझने के लिए उनसे सीधे संपर्क कर रहे हैं, ताकि वे अपना-अपना चुनावी एजेंडा निर्धारित कर सकें. विभिन्न राजनीतिक दलों ने अपने चुनावी घोषणापत्र के लिए एक ऑनलाइन हस्ताक्षर प्लेटफॉर्म ‘चेंज डॉट ओआरजी’ (Change.org) से अनुबंध किया है. वेबसाइट के जरिए चुनावी एजेंडा तय करने का यह तरीका देश में संभवतः पहली बार इस्तेमाल में लाया जा रहा है.

दक्षिण-पूर्वोत्तर की 122 सीटों के लिए BJP का महाप्‍लान, PM मोदी करेंगे ये काम

कांग्रेस के राजीव गौड़ा, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजीव चंद्रशेखर, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के टीकेएस एलांगोवन ने सत्यापित नेताओं के तौर पर आगामी आम चुनाव के मद्देनजर जनता की सहायता से विजन तैयार करने के लिए चेंज डॉट ओआरजी पर अपना खाता खोला है. जहां केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस, दिल्ली के मंत्री सत्येंत्र जैन और सांसद तथागत सत्पथी जनता की समस्याओं को समझने के लिए चेंज डॉट ओआरजी का उपयोग करते रहे हैं और कुछ समय के लिए पहल की, वहीं राजनीतिक दलों के लिए अपना चुनावी घोषणा पत्र तैयार करने के लिए वेबासाइट का उपयोग करने का पहला मौका है.

लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा की रणनीति- विदेशी 'मेहमान' भी संभालेंगे प्रचार का काम, कांग्रेस लड़ेगी जमीनी लड़ाई

लोकसभा चुनाव 2019: भाजपा की रणनीति- विदेशी 'मेहमान' भी संभालेंगे प्रचार का काम, कांग्रेस लड़ेगी जमीनी लड़ाई

पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ रहीं आम आदमी पार्टी (आप) नेता आतिशी ने अपनी पहल ईस्ट दिल्ली डायलॉग्स के माध्यम से पूर्वी दिल्ली के लिए एक विजन तैयार करने में मदद के लिए साइनअप किया था. चेंज डॉट ओआरजी इंडिया की निदेशक निदा हसन ने कहा, “हम लोकतंत्र में जनता की सक्रिय भागीदारी में विश्वास रखते हैं. इसीलिए हम आगामी आम चुनावों से पहले जनप्रतिनिधियों तथा जनता के बीच संवाद स्थापित करना चाहते हैं. उपयोगकर्ताओं से असाधारण प्रतिक्रिया मिली है और आम जनता की समस्याओं वाली सैकड़ों मुद्दों पर हस्ताक्षर हुए हैं.”

(इनपुट – एजेंसी)