Lok Sabha :  लोकसभा में शुक्रवार को सदस्यों ने जमकर हंगामा मचाया और कार्यवाही के दौरान एक-दूसरे पर जमकर अमर्यादित टिप्पणी की. सदस्यों ने भाषा की सारी मर्यादाएं लांघ दीं, जिसके बाद स्पीकर ने सदस्यों को कड़ी चेतावनी दी. लोकसभा में कल  कराधान बिल पर चर्चा शुरू हुई और पूरी चर्चा कोरोना महामारी से निजात के लिए बनाए गए पीएम केयर्स फंड पर केंद्रित हो गई और सत्ता पक्ष और विपक्ष ने असंसदीय टिप्पणियों से सदन को शर्मशार कर दिया. Also Read - संसद के मानसून सत्र के लिए ऐसी की जा रहीं हैं खास तैयारियां, चेम्‍बर से लेकर गैलरी तक में बैठेंगे सांसद

सदस्यों ने एक- दूसरे के लिए गधा, डाकू, कल का छोकरा, लुटेरा खानदान जैसे शब्दों का प्रयोग किया. जिसपर जमकर हंगामा हुआ और  सदन की कार्यवाही चार बार करीब दो घंटे तक बाधित रही. इस हंगामे के बीच स्पीकर पर भी सवाल उठाए गए जिसपर स्पीकर ने कड़ी चेतावनी दी और कहा कि मुझपर आरोप लगाना उचित नहीं. Also Read - Monsoon Session 2020: लोकसभा अध्यक्ष बोले- सत्र की शुरुआत से 72 घंटे पहले सांसदों और स्टाफ को कराना होगा करोना टेस्ट

दरअसल हंगामे को देखते हुए टीएमसी के कल्याण बनर्जी ने स्पीकर पर पक्षपात का आरोप लगाया तो स्पीकर ने कहा कि, मैंने सभी पक्षों को समझाया है. सभी पक्षों को खड़े रह कर अपनी बात नहीं रखने की चेतावनी दी है. सभी से कहा, ऐसी स्थिति में नाम लेकर उन्हें सदन से बाहर किया जाएगा. इसके बावजूद ऐसे आरोप उचित नहीं हैं. कोई सदस्य अपने मन से सदन चलाने की कोशिश नहीं कर सकता. Also Read - सत्तारूढ़ पार्टी YSR कांग्रेस के सांसद ने जान पर खतरा बताया, लोकसभा अध्यक्ष से सुरक्षा मांगी

दरअसल, कराधान बिल पर चर्चा के दौरान विपक्ष के सभी सदस्यों ने पीएम केयर्स फंड पर सवाल उठाए.  विपक्ष ने बिल की पारदर्शिता पर भी सवाल उठाया. इसके बाद जब वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर के बोलने की बारी आई तो बिल की पूरी चर्चा पटरी से उतर गई और हंगामा शुरू हो गया.

अनुराग ठाकुर ने कहा, जब इनलोगों को कुछ नहीं मिला तो ये पीएम केयर्स फंड के पीछे पड़े हैं. अनुराग ने कहा, नेहरू ने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय आपदा कोष तो बनाया, लेकिन इसे रजिस्टर्ड नहीं कराया. उन्होंने कहा कि पूरा का पूरा फंड नेहरू-गांधी परिवार को लाभ पहुंचाने के लिए बनाया गया था.

इस पर जब अधीर ने सोनिया गांधी का नाम लेने पर आपत्ति जताई, तो अनुराग ने कहा, चर्चा में पूरे खानदान का नाम लूंगा. अनुराग ने कांग्रेस सांसदों को एक परिवार का गुलाम बताया. फिर क्या था ठाकुर के बयान पर अधीर रंजन ने आपा खो दिया और कहा कि पता नहीं हिमाचल का कल का छोकरा, हिमाचल का… कहां से आ गया, जिसने पूरा माहौल खराब कर दिया.