बालासोर (ओडिशा): भारत ने सोमवार को ओडिशा तट के पास डॉ अब्दुल कलाम द्वीप से परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि 5 का सफल प्रायोगिक परीक्षण किया. यह मिसाइल 5,000 किलोमीटर की दूरी तक लक्ष्य भेद सकने में सक्षम है. रक्षा सूत्रों ने बताया कि सतह से सतह पर मार करने वाली, स्वदेश में विकसित इस मिसाइल का यह सातवां परीक्षण है. अन्य मिसाइलों के उलट अग्नि 5 मार्ग एवं दिशा-निर्देशन, विस्फोटक ले जाने वाले शीर्ष हिस्से और इंजन के लिहाज से सबसे उन्नत है.Also Read - Cyclone Gulab: एनडीआरएफ ने ओडिशा, आंध्र प्रदेश में 18 टीमों को तैनात किया; बंगाल में सरकारी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द

Also Read - AUSW vs INDW Warm-Up Match: Rachael Haynes ने जड़ा अर्धशतक, ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हराया

अग्नि 5 तीन चरणों में मार करने वाली मिसाइल है जो 17 मीटर लंबी, दो मीटर चौड़ी है और 1.5 टन तक के परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है. अधिकारियों के मुताबिक इस श्रृंखला की अन्य मिसाइलों के उलट अग्नि 5 मार्ग एवं दिशा-निर्देशन, विस्फोटक ले जाने वाले शीर्ष हिस्से और इंजन के लिहाज से सबसे उन्नत है. Also Read - इस राज्य में टीके की पहली खुराक ले चुके लोग दूसरी खुराक लेने के लिए नहीं आ रहे, अधिकारी परेशान

एक रक्षा सूत्र ने बताया कि इस मिसाइल का परीक्षण सोमवार दोपहर बंगाल की खाड़ी के डॉ अब्दुल कलाम द्वीप पर इंटिग्रेटेड टेस्ट रेंज (आईटीआर) के लॉन्च पैड संख्या चार से एक मोबाइल लॉन्चर से किया गया.

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के अधिकारियों के मुताबिक इस मिसाइल को लक्ष्य बिंदु को सटीकता से भेदने के लिए डिजाइन किया गया है. यह मिसाइल उसमें लगे कंप्यूटर से निर्देशित होगा.