सलेम (तमिलनाडु)। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज में अपनी पढ़ाई पूरी करने आई हादिया ने शहर में पांव रखने के अगले ही दिन आज अपने पति से मिलने की इच्छा दोहराई. सुप्रीम कोर्ट में केरल के लव-जिहाद मामले के मुदकमे को लेकर हदिया चर्चा में है. हाल ही में सने इस्लाम कबूल कर एक मुसलमान युवक शफीन जहां से शादी की थी.

शिवराज होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज में हदिया ने संवाददाताओं से कहा कि पिछले छह महीने से मैं उन लोगों से बात कर रही थी जिन्हें (माता-पिता) मैं पसंद नहीं करती क्योंकि उनके साथ रहने के दौरान उन्होंने मुझे बहुत प्रताड़ित किया है. हदिया इस कॉलेज से 11 महीने की इंटर्नशिप कर रही है.

लव जिहाद: हदिया के पिता ने कहा, अपने परिवार में आतंकवादी नहीं चाहता

लव जिहाद: हदिया के पिता ने कहा, अपने परिवार में आतंकवादी नहीं चाहता

सुनवाई के बाद अदालत ने 25 साल की हदिया को उसके माता-पिता की देख-रेख से अलग करके अपनी पढ़ाई पूरी करने को कहा है. हदिया को कल शाम केरल पुलिस की कड़ी सुरक्षा के बीच यहां लाया गया. पति शफीन जहां के बारे में पूछने पर हदिया ने कहा कि पिछले कई महीनों से मेरा अपने पति से कोई संपर्क नहीं है, उसके पास कोई मोबाइल फोन नहीं और इस दौरान उसने सिर्फ अपने माता-पिता से बातचीत की है. हदिया का कहना है कि मैं अपने पति से बातचीत करने के लिए बहुत उत्सुक हूं.

छात्रावास में उपलब्ध सुविधाओं और सुरक्षा इंतजाम के बारे में सवाल करने पर हदिया ने कहा कि उसे इसकी कोई जानकारी नहीं है और वह अगले एक-दो दिन में जवाब दे सकती है. उसने कहा कि अदालत के आदेश की प्रति मिलने के बाद ही वह इस संबंध में बेहतर बातचीत कर सकेगी.

शीर्ष अदालत ने कॉलेज के डीन को हदिया का अभिभावक नियुक्त किया है और कोई दिक्कत होने की स्थिति में तुरंत अदालत से संपर्क करने की छूट दी है. इससे पहले हदिया कोच्चि में अपने माता-पिता के साथ रह रही थी. अदालत ने उसे अपने पति के पास वापस जाने की अनुमति भी नहीं दी है.