नई दिल्ली/लुधियाना. लुधियाना के फुल्लनवाला में बच्चों के एक अवैध आश्रय स्थल (शेल्टर होम) में तस्करी और धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है. इसके बाद पुलिस ने शेल्टर होम के मालिक सत्येंद्र प्रकाश मूसा को गिरफ्तार कर लिया है. आरोप है कि उसके पास जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत शेल्टर होम का रजिस्ट्रेशन भी नहीं था. बताया जा रहा है कि वहां से 30 बच्चे गायब हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक, झारखंड और बिहार से कथित रूप से तस्करी करके 34 बच्चों को पंजाब के लुधियाना ले जाया गया. वहां बच्चों का कथित तौर पर धर्म परिवर्तन कर ईसाई बना दिया गया जिसमें अधिकतर बच्चे आदिवासी हैं. पश्चिमी सिंहभूम के पुलिस अधीक्षक जी क्रांति कुमार ने बताया कि लुधियाना में मिशनरी द्वारा संचालित किये जा रहे बच्चों के आश्रय स्थल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. कुमार ने बताया कि चाईबासा में बाल कल्याण समिति की सदस्य ज्योत्सना तिर्की द्वारा 24 अगस्त को दर्ज शिकायत के बाद पुलिस हरकत में आई.

झारखंड से पहुंची पुलिस
उन्होंने बताया कि बिहार और झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले में चाईबासा से 34 बच्चों को लुधियाना में मिशनरी द्वारा संचालित किये जा रहे बच्चों के आश्रय स्थल में गैर कानूनी रूप से रखने का दावा करने वाली मीडिया की खबर पर यह शिकायत आधारित थी. अधिकारी ने बताया कि शिकायत के आधार पर पुलिस के दल को लुधियाना भेजा गया और झारखंड पुलिस ने पंजाब पुलिस के साथ मिलकर एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया. इसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड पर चाईबासा लाया जायेगा. कुमार ने बताया कि पुलिस टीम के कथित मानव तस्करी की घटना के खुलासे के लिए वहां पहुंचने के बाद वापस सिंहभूम भेजे गये 20 बच्चों में से 12 बच्चों से संपर्क किया गया.

अवैध स्कूल में है दाखिला
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि झारखंड और बिहार से लाए गए 34 बच्चों को पहले लुधियाना में गैर कानूनी स्कूल में भर्ती कराया गया और बाद में शहर के एक अन्य स्कूल में दाखिल कराया गया. रांची और खूंटी से दो दो बच्चे अभी वैध स्कूल में पढा़ई कर रहे हैं. इस मामले की जांच की जा रही है.

धर्म परिवर्तन की बात हो सकती है सच
कथित धर्म परिवर्तन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह जांच के बाद स्पष्ट हो सकेगा लेकिन प्रथम दृष्टया रिपोर्ट के अनुसार कुछ बच्चों का धर्म परिवर्तन कराया गया. उन्होंने कहा कि वह इस बारे में तभी कुछ कह सकते है जब गिरफ्तार व्यक्ति को यहां लाया जायेगा.