नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में चौथी बार अपनी जीत को लेकर आश्वस्त मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कहना है कि कांग्रेस हार के डर की वजह से परेशान है इसलिए वह ईवीएम और अन्य बेकार मुद्दों का रोना रो रही है. शिवराज सिंह चौहान ने अपनी पार्टी के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को 11 दिसंबर को मतगणना के दौरान सावधानी रखने की हिदायत देते हुए कहा कि मतगणना के समय भी कांग्रेस कदम-कदम पर बाधाएं पैदा करने की कोशिश करेगी.चौहान ने संवाददाताओं से कहा ‘मध्यप्रदेश में भाजपा (चौथी बार) सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस के मित्र बौखलाहट में हैं और इसलिए कई अनर्गल बातें कर रहे हैं. Also Read - इजराइल को क्लोरोक्वीन भेजने के लिए शुक्रिया, मेरे प्रिय मित्र नरेंद्र मोदी: बेंजामिन नेतन्याहू

मध्य प्रदेश की इन हॉट सीट पर रहेगी सबकी नजर, जीत-हार का पार्टियों पर पड़ेगा असर Also Read - इस वृद्ध महिला ने जिंदगी भर की जमापूंजी 10 रुपए पीएम केयर्स फंड में दान दिए

उन्होंने आगे कहा, हमको लगता है कि जैसे उन्होंने पहले ईवीएम पर संदेह के बादल खड़े किए, चुनाव आयोग तक को कठघरे में लिया. मतगणना के समय भी वह (कांग्रेस) कदम-कदम पर बाधाएं पैदा करने की कोशिश करेंगे. मध्यप्रदेश विधानसभा की सभी 230 सीटों के लिए 28 नवंबर को मतदान हुआ था और 11 दिसंबर को मतगणना होगी. एक्जिट पोल में मध्य प्रदेश में सत्तारुढ़ भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस के बीच कड़े मुकाबले का अनुमान जताए जाने के विपरीत भाजपा ने इसके सच्चाई से दूर होने का दावा करते हुए कहा कि जो ढाई प्रतिशत मतदान बढ़ा है वह भाजपा सरकारों की नीतियों और योजनाओं को स्पष्ट समर्थन है और भाजपा पिछले विधानसभा चुनाव (165) से भी अधिक सीटें जीतने जा रही है. Also Read - पीएम ने ट्वीट कर बताया,...तो यह मोदी को विवादों में घसीटने की कोई खुराफात लगती है

5 राज्यों के चुनाव परिणाम आने में होगी देरी, ये है वजह

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने भाजपा के प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में शनिवार शाम को कहा, ‘हम 2013 के विधानसभा चुनाव से भी अधिक सीटें जीतने जा रहे है. यह हमारा आकलन है और इसका ठोस आधार हमारे पास है. हमारे कार्यकर्ताओं का कठोर परिश्रम, हमारी सरकार द्वारा किए गए काम और विभिन्न स्तर पर प्राप्त हुई जानकारी के आधार पर हम आत्मविश्वास से भरे हुए हैं.

रिजल्ट से पहले बीजेपी नेता बोले- सीएम शिवराज ने नहीं दिया होता ये बयान तो नहीं होता 10-15 सीटों का नुकसान

यह स्पष्ट है कि जनता के पास कांग्रेस को वोट देने का कोई कारण नहीं था. यह जो ढाई प्रतिशत वोट बढ़ा है वह भाजपा सरकारों की नीतियों और योजनाओं को स्पष्ट समर्थन है. बैठक में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, ‘हमारे व्यावहारिक आकलन के सामने कोई भी आकलन टिकता नहीं है और हमने देखा है कि मतदाताओं में और विशेषकर युवाओं, महिलाओं और नवमतदाताओं में भाजपा के प्रति विशेष स्नेह उमड़ रहा था. इस बार 40 लाख नए मतदाताओं ने वोट डाला और वह वोट हमारा वोट था.

महागठबंधन बनाने के लिए होने वाली है विपक्ष की बैठक, यशवंत सिन्हा ने ममता को बताया पीएम पद का योग्य उम्मीदवार

इस चुनाव में गरीबों ने भाजपा का साथ दिया है, क्योंकि हमारी सरकार ने गरीबों के जीवन को बदलने का काम किया है. हम जोरदार और स्पष्ट बहुमत की ओर बढ़ रहे है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस बौखलाई हुई है इसलिए रोज नए प्रपंच कर रही है. उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं को यह बात भी अच्छी तरह समझने की आवश्यकता है कि एक्जिट पोल ने 2008 में और 2013 में भी हमें ज्यादा सीट नहीं दी थी. फिर भी हम प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आए. इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि हमारा दृढ़ विश्वास है कि हम पिछली बार से भी अधिक सीटें जीतकर सरकार बनाएंगे.