नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान विधानसभा की 230 सीटों के लिए मतदान जारी है. जहां 227 विधानसभा क्षेत्रों में सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक और बालाघाट जिले के 3 नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्रों परसवाड़ा, बैहर एवं लांजी में सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक मतदान होगा. कई जगहों से ईवीएम में गड़बड़ी की खबरे आ रही हैं वहीं चुनावी ड्यूटी में तैनात तीन अधिकारियों की दिल कौ दौरा पड़ने से मौत हो गई. गुना में चुनाव आयोग के एक अधिकारी और इंदौर में दो अधिकारियों का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. राज्य में 9 बजे तक 9.32 फीसदी मतदान की खबर है.

पिसते मिडिल क्लास की सच्चाई को व्यंग्य में बताने वाले शख्स, मध्यप्रदेश की उनकी सीट का हाल जानें

इस अहम चुनाव में बीजेपी लगातार चौथी बार प्रदेश की सत्ता में आने के लिए जीतोड़ कोशिश कर रही है, वहीं विपक्षी दल कांग्रेस पिछले 15 साल से सत्तारुढ़ भाजपा को सत्ता से बेदखल करने का प्रयास कर रही है. भाजपा ने अबकी बार 200 पार का लक्ष्य तय किया है. मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से कुछ महीने पहले हो रहे हैं.

राजकुमार को आम लड़की से हुआ प्यार, राजशाही ने छीनी दोनों की जिंदगी, अकबर भी हुआ था प्रभावित

राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वी एल कांता राव ने मंगलवार को बताया था कि इस चुनाव में कुल 5,04,95,251 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे जिनमें 2,63,01,300 पुरुष, 2,41,30,390 महिला एवं 1,389 थर्ड जेंडर के मतदाता शामिल हैं. इनमें से 65,000 सर्विस मतदाता डाक मतपत्र से पहले ही मतदान कर चुके हैं. बाकी 5,04,33,079 मतदाता आज अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. उन्होंने बताया कि इस चुनाव के लिए 1,094 निर्दलीय उम्मीदवार सहित कुल 2,899 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें से 2,644 पुरूष, 250 महिलाएं एवं पांच ट्रांसजेंडर शामिल हैं.

इस रहस्यमयी किले में घूमने पहुंची बारात हो गई थी गायब, बौना चोर, खजाने और खूबसूरत रानी से भी जुड़ा है इतिहास

उन्होंने बताया कि समूचे राज्य में 65,367 मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं. इनमें से 17,000 मतदान केन्द्र संवेदनशील घोषित किये गये हैं, जहां केन्द्रीय पुलिस बल और वेबकास्टिंग के साथ माइक्रो पर्यवेक्षक भी तैनात किये गये हैं. सभी मतदान केन्द्रों पर मतदान के लिये ईवीएम के साथ वीवीपैट का उपयोग होगा.उन्होंने बताया कि राज्य में शांतिपूर्वक, स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने के लिए 1.80 लाख सुरक्षा कर्मी तैनात किये गये हैं, जिनमें केन्द्रीय और राज्य के सुरक्षाकर्मी शामिल हैं. चुनाव आयोग ने निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित कराने के लिए पूरी तैयारी की है. मध्य प्रदेश में इस बार भी मुख्य रूप से भाजपा एवं कांग्रेस के बीच मुकाबला होने की उम्मीद है.नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे.

मध्य प्रदेश चुनाव: जनता से पहले जीत की ‘गारंटी’ के लिए इस ‘राजा’ की चौखट पर मत्था टेक रहे नेता

अपने-अपने मताधिकार का प्रयोग करने के बाद कांग्रेसी नेता कमल नाथ और सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपनी-अपनी पार्टी की जीत का दावा किया. कमलनाथ ने कहा कि उन्हें मध्य प्रदेश के मतदाताओं पर पूरा विश्वास है. मतदाता प्रदेश का भविष्य सुरक्षित रखेंगे और अपने हितों की रक्षा करेंगे. हमें जो संकेत व सूचनाएं मिली हैं, उनके आधार पर 140 से ज्यादा सीटें आ रही हैं. वहीं पिछले 15 सालों से सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमें 100% विश्वास है कि बीजेपी पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगी. हमने 200 सीटों का लक्ष्य निर्धारित किया है और हमारे लाखों कार्यकर्ता इसे सच करने के लिए काम कर रहे हैं.

विधानसभा चुनावों पर विस्तृत कवरेज के लिए क्लिक करें