भोपालः मध्य प्रदेश में महिला विधायकों की संख्या पिछले बार की तुलना में करीब-करीब आधी हो गई है. इस बार 15वीं विधानसभा में 17 महिला विधायक ही निर्वाचित हुईं जबकि पिछली विधानसभा में उनकी संख्या 31 थी. चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार निर्वाचित 230 विधायकों में 114 सीटें कांग्रेस और 109 सीटें भाजपा को मिली हैं. बसपा को दो और सपा को एक सीट मिली है. चार सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों के खाते में गई हैं. नवनिर्वाचित 17 महिला विधायकों में से नौ भाजपा और आठ कांग्रेस की हैं.

कांग्रेस की आठ विधायकों में डबरा से इमरती देवी, लांजी से हिना लिखीराम कांवरे, गाडरवारा से सुनीता पटेल, नेपानगर से सुमित्रा देवी कास्देकर, भीकनगांव से झूमा सोलंकी, महेश्वर से डॉ विजयालक्ष्मी साधौ, पानसेमल से चंद्रभागा किराड़े, और जोबट से कलावती भूरिया हैं.

भाजपा की नौ निर्वाचित विधायकों में शिवपुरी से यशोधरा राजे सिंधिया, जैतपुर से मनीषा सिंह, मानपुर से मीना सिंह, सीहोरा से नंदनी मरावी, बासौदा से लीना जैन, गोविन्दपुरा से कृष्णा गौर, धार से नीना वर्मा, इन्दौर-4 से मालिनी गौड़ और डॉ अम्बेडकर नगर (महू) से उषा ठाकुर शामिल हैं. पिछली विधानसभा में 31 महिला विधायक थीं जिनमें भाजपा की 24, कांग्रेस की पांच और बसपा की दो विधायक थीं.

(इनपुट- भाषा)