मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां बेहद तेज हो गई हैं. दोनों प्रमुख दल बीजेपी और कांग्रेस इस चुनाव में बेहतर नतीजे हासिल करने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहते. इसीलिए वे तमाम उपाय करने के साथ-साथ वास्तुशास्त्र विशेषज्ञों की भी सहायता ले रहे हैं. पिछले 14 साल से राज्य की सत्ता से बाहर चल रही कांग्रेस ने हाल ही में अपने मुख्यालय से वास्तुदोष दूर करवाया है. अब बीजेपी भी इसी राह पर चल रही है. उसने भी वास्तुशास्त्र के जानकारों के सुझाव पर अपने मुख्यालय से वास्तुदोष दूर करवा रही है. भाजपा प्रदेश मुख्यालय के द्वार पर एक सुरक्षा पोस्ट है जिसे वास्तु के जानकारों ने अशुभ बताया है. पार्टी ने इस पोस्ट को हटवा दिया है. Also Read - West Bengal Assembly Election: कांग्रेस का ममता बनर्जी को बड़ा ऑफर, कहा- पश्चिम बंगाल में मिलकर चुनाव लड़े TMC, बीजेपी से...

Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

सत्ता में बनाए रखने और बागी नेताओं पर काबू पाने के लिए वास्तु के जानकारों के सुझाव पर प्रदेश भाजपा मुख्यालय में काफी बदलाव किया जा रहा है. इसी क्रम में एंट्री गेट के पास सुरक्षा पोस्ट को हटवाकर वहां पर एक वाटर टैंक का निर्माण करवाया जा रहा है. इसी जगह पर 2003 में वाटर टैंक ही था. उस वक्त राज्य की मुख्यमंत्री उमा भारती थीं. लेकिन बाद में इसे तोड़वाकर वहां पर सुरक्षा पिकेट और सुरक्षाकर्मियों के लिए एक कमरा बनवा दिया गया था. Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल-प्रियंका भी हुए शामिल, कहा- पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही बीजेपी

चुनावी चंदाः सबसे बड़े इलेक्टोरल ट्रस्ट ने BJP को दिए 144 करोड़, कांग्रेस को मिले केवल 10 करोड़

जब पार्टी के सदस्यों ने वास्तुशास्त्र के जानकारों से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि मेन गेट के पास वाटर टैंक के निर्माण से इस चुनाव में पार्टी को बेहतर नतीजे मिलेंगे. जानकारों का मानना है कि पिछले 14 साल के भाजपा शासन में पहली बार शिवराज सिंह चौहान को जबर्दस्त सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ रहा है.

मध्य प्रदेश चुनावः कांग्रेस के लिए राह नहीं है आसान, BJP की इस रणनीति का नहीं है कोई काट!

भोपाल के सांसद और भाजपा के प्रवक्ता आलोक संजार ने कहा कि वास्तु हर किसी की जरूरत है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी परंपराओं में विश्वास करती है. मुख्यालय में हो रहे इस बदलाव के मौके पर कई पंडितों और साधुओं ने मंत्रोच्चार कर निर्माण कार्य की शुरुआत करवाई. इससे पहले कांग्रेस पार्टी ने अपने मुख्यालय के भूतल पर पार्टी प्रवक्ता के कमरे के पास बने तीन टॉयलेट को हटवाया था. भोपाल के शिवाजीनगर में इंदिरा भवन में पार्टी का मुख्यालय है.