नई दिल्ली/भोपाल. मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने रविवार को पहली लिस्ट जारी कर दी. इसमें 155 उम्मीदवारों के नाम हैं. लिस्ट को देखकर साफ दिखता है कि एक तरफ कांग्रेस ने दिग्गज नेताओं पर एक बार फिर भरोसा दिखाया है तो दूसरी तरफ कई नेताओं ने भाई-बेटों को टिकट दिलाया है. इसमें दिग्विजय सिंह से लेकर कांतिलाल भूरिया और सत्यव्रत चतुर्वेदी तक के नाम शामिल हैं.

कांग्रेस ने 155 उम्मीदवारों की जो लिस्ट जारी की है उसमें वंशवाद की झलक दिख रही है. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बेटे विधायक जयवर्धन सिंह को राघौगढ़ से टिकट मिला है, वहीं उनके छोटे भाई पूर्व सांसद लक्ष्मण सिंह को चाचोड़ा से टिकट मिला है. इतना ही नहीं उनके भतीजे प्रियव्रत सिंह को खिलचीपुर से टिकट मिला है. कांतिलाल भूरिया की बात करें तो उनके बटे विक्रांत को जहां झाबुआ से टिकट मिला है, वहीं भतीजी कलावती भूरिया भी जोबट विधानसभा सीट से मैदान में उतारी गई हैं.

इनके परिवार में भी मिला टिकट
पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी के छोटे भाई आलोक चतुर्वेदी को छतरपुर से टिकट दिया गया है. हालांकि, उनके बेटे नितिन चतुर्वेदी का नाम 155 लोगों की लिस्ट में नहीं है, लेकिन कहा जा रहा है कि सत्यव्रत चतुर्वेदी उसे भी टिकट दिलाने की कोशिश कर रहे हैं. सुंदरलाल तिवारी ने अपनी बहू अरुणा तिवारी को जहां टिकट दिलवाया है, वहीं पूर्व मंत्री इंद्रजीत पटेल अपने बेटे कमलेश्वर को टिकट दिलाने में कामयाब रहे. पूर्व मंत्री हजारीलाल रघुवंशी के बेटे को सिवनी मालवा से टिकट मिला है, जमुनादेवी के भतीजे उमंग सिंघार को गंधवानी से टिकट मिला है और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के भाई सचिन यादव को कसरावद से टिकट मिला है. अटेर से पूर्व विधायक सत्यदेव कटारे के विधायक बेटे हेमंत को एक बार फिर टिकट मिला है.

मैदान में दिग्गज
कांग्रेस ने राज्य के अपने दिग्गज नेताओं पर एक बार फिर भरोसा जताया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी को जहां भोजपुर से उतारा गया है, वहीं पूर्व सांसद सज्जन वर्मा को सोनकक्ष से टिकट मिला है. विजय लक्ष्मीसाधो को महेश्वर, लक्ष्मण सिंह को चाचौड़ा विधानसभा सीट से टिकट दिया गया है.

युवाओं पर राहुल गांधी ने दिखाया भरोसा
राहुल गांधी कांग्रेस के महासचिव और फिर उपाध्यक्ष बनने के दौरान से ही यूथ कांग्रेस और एनएसयूआई को मजबूत करने में लगे थे. इस दौरान उन्होंने कई बार एक बात दोहराई कि भविष्य इन्हीं का है. वह लगातार कहते रहते हैं कि युवाओं को मौका दिया जाएगा. इसकी मिसाल टिकट बंटवारे में देखने को मिली. युवा कांग्रेस के कोटे से जहां नेवी जैन, कुणाल चौधरी और भूपेंद्र मरावी को टिकट मिला है, वहीं एनएसयूआई कोटे से विपिन वानखेड़े और नीरज दीक्षित को टिकट दिया गया है.

ये है कांग्रेस द्वारा जारी की गई पहली लिस्ट