भोपालः ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) द्वारा कांग्रेस (Congress) छोड़े जाने के बाद पनपे सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने राज्यपाल मुलाक़ात की. कमलनाथ ने राज्यपाल से मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट कराए जाने की मांग की है. कमलनाथ ने राज्यपाल लालजी टंडन से मांग की कि कांग्रेस के विधायकों को बेंगलुरु से छुड़ाया जाए. कमलनाथ ने राज्यपाल को हालात की जानकारी दी. कमलनाथ ने राज्यपाल लालजी टंडन से कहा कि बीजेपी कांग्रेस विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है. इसलिए जल्द से जल्द विधायकों को छुड़ाया जाए. उन्होंने बीजेपी ऊपर खरीद फ़रोख़्त का आरोप लगाया. Also Read - मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक और मौत, प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 47 हुई

राहुल गांधी-ज्योतिरादित्य सिंधिया: 18 नहीं, 31 साल पुरानी थी दोस्ती, कॉलेज से शुरू हुई थी यारी Also Read - Coronavirus: इंदौर में ड्यूटी पर तैनात 3,000 पुलिसकर्मियों को परिवार से दूरी बनाए रखने की सलाह

मुलाक़ात के बाद कमलनाथ ने मीडिया कहा कि मीडिया  अभी राजनीति में कोरोना वायरस आ गया है. इस दौरान कमलनाथ विक्ट्री साइन बनाते हुए दिखे. कांग्रेस में चल रहे सियासी घमासान के बीच राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल लालजी टंडन से आज सुबह मुलाकात की. राज्यपाल गुरुवार की देर रात में ही भोपाल लौटे थे. Also Read - इंदौर में कोरोना वायरस से पांच और लोग हुए संक्रमित, राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 20 हुई 

400 कमरे, दीवारों पर सोना-चांदी: ऐसा है ‘महाराज’ ज्योतिरादित्य सिंधिया का महल, 4 हज़ार करोड़ है कीमत

राज्य में बीते एक सप्ताह से सियासी खींचतान मची हुई है. कांग्रेस के 22 विधायकों ने अपनी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. इनमें से 19 विधायक बेंगलुरू में है. वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बेंगलुरू गए छह मंत्रियों को बर्खास्त करने की राज्यपाल से सिफारिश की है. राज्यपाल आठ मार्च को होली की छुट्टी पर लखनऊ गए हुए थे और गुरुवार की देर रात को ही लौटे.

ये हैं ‘महारानी’ प्रियदर्शिनी, जिन्हें देखते ही दिल दे बैठे थे ज्योतिरादित्य सिंधिया, दुनिया की 50 खूबसूरत महिलाओं में रही हैं शामिल

भाजपा लगातार वर्तमान सरकार को अल्पमत की सरकार बता रही है. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वर्तमान हालात के बीच राज्यपाल के अभिभाषण पर सवाल उठाए हैं, साथ ही कहा है कि ‘यह सच्चाई है कि, इस सरकार ने बहुमत खो दिया है, अब ऐसी सरकार कैसे राज्यपाल का अभिभाषण करा सकती है और सत्र बुला सकती है.’

ये हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया की ‘राजकुमारी’ बेटी, 8 साल की उम्र में कर डाला था ये बड़ा काम

ज्ञात हो कि राज्य सरकार के मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, तुलसी सिलावट, प्रभुराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसौदिया के अलावा विधायक हरदीप सिंह डंग, जसपाल सिंह जज्जी, राजवर्धन सिंह, ओपीएस भदौरिया, मुन्ना लाल गोयल, रघुराज सिंह कंसाना, कमलेश जाटव, बृजेंद्र सिंह यादव, सुरेश धाकड़, गिरराज दंडौतिया, रक्षा संतराम सिरौनिया, रणवीर जाटव, जसवंत जाटव इस्तीफे दे चुके है.