जबलपुरः पिछले सप्ताह फ्रेंडशिप डे पर एक अजीब घटना देखने को मिली. जबलपुर के एक बिल्डर के टीनएज बेटे ने अपने दोस्तों पर पैसों की बरसात कर दी. लड़के ने अपने पिता के 46 लाख रुपये अपने दोस्तों के बीच बांट दिए. उसने एक दिहाड़ी मजदूर के बेटे को 15 लाख और अपने एक क्लासमेट, जो उसका होमवर्क कराने में हेल्प करता था, को 3 लाख रुपये दिए. उसके एक दोस्त ने इन पैसों से नई कार खरीदी.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक बिल्डर का बेटा 10वीं क्लास में पढ़ता है. उसने अपने किसी भी दोस्त को खाली हाथ नहीं लौटाया. उसके स्कूल और कोचिंग में करीब 35 दोस्त थे, जिनको उसने स्मार्टफोन और चांदी के ब्रासलेट गिफ्ट किए. पुलिस के मुताबिक बिल्डर ने अपनी आलमारी में करीब 60 लाख रुपये कैश रखा हुआ था. उनका कहना है कि हाल में एक प्रोपर्टी की बिक्री से ये पैसे मिले थे. जब बिल्डर को एहसास हुआ कि पैसे गायब हैं तो उसने पुलिस के पास शिकायत की. शुरुआत में पुलिस भी परेशान थी कि चोरी या सेंधमारी के कोई संकेत नहीं हैं फिर पैसे कैसे गायब हुए.

MP: सुसाइड या मर्डर? थाने में फांसी पर लटका मिला युवक, इंचार्ज समेत दो पुलिसकर्मी सस्पेंड

जब पुलिस ने आगे जांच की तो पता चला कि बिल्डर के बेटे ने अपने दोस्तों के बीच पैसे बांटे हैं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि वे लड़के के दोस्तों से पैसे वसूलने की कोशिश कर रहे हैं. लड़के के पिता ने पुलिस को बेटे के दोस्तों की एक सूची सौंपी है. पुलिस उन सभी से संपर्क करने की कोशिश में लगी है. पुलिस का कहना है कि 15 लाख रुपये हासिल करने के बाद दिहाड़ी मजदूर का बेटा लापता है. जिन लड़कों को सबसे ज्यादा पैसे मिले पुलिस ने उनके माता-पिता को थाने में समन किया है. उनसे पुलिस ने पांच दिन के भीतर पैसे लौटाने को कहा है. एसआई बीएस तोमर ने कहा कि अब तक हमने 15 लाख रुपये बरामद कर लिए हैं. बाकी के पैसे वापस पाने की कोशिश जारी है. अभी तक इसको लेकर कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है, क्योंकि इसमें शामिल सभी नाबालिग हैं.

एटीएम धोखाधड़ी गिरोह के दो रोमानियाई बदमाश एमपी से अरेस्ट, ऐसे करते थे वारदात