भोपाल। मध्य प्रदेश में 12 वर्ष की आयु से कम की नाबालिग बालिकाओं से दुष्कर्म और सामूहिक दुष्कर्म करने वालों को मृत्युदंड दिए जाने के दंड विधि संशोधन विधेयक को रविवार को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में मंजूरी दे दी गई. आधिकारिक तौर पर मिली जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई बैठक में राज्य मंत्रिमंडल ने बालिकाओं के साथ होने वाली दुष्कर्म की घटनाओं पर अंकुश लगाने का संकल्प दोहराया और दोषियों को सख्त सजा मिले, इस पर जोर दिया गया. Also Read - Ayodhya Ram Temple: राम मंदिर निर्माण के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एक लाख रुपये का दिया दान

मंत्रिमंडल की बैठक में 12 साल से कम उम्र की बालिका से दुष्कर्म अथवा सामूहिक दुष्कर्म करने वालों को फांसी की सजा दी जाए, इसका विधेयक पारित किया गया. राज्य सरकार के वित्तमंत्री जयंत मलैया ने संवाददाताओं से बताया कि दंड विधि संशोधन विधेयक को मंजूरी दे दी गई. 

Court can not force husband to keep wife supreme court | अदालतें पत्नी को रखने के लिए पति को मजबूर नहीं कर सकतीं: SC

Court can not force husband to keep wife supreme court | अदालतें पत्नी को रखने के लिए पति को मजबूर नहीं कर सकतीं: SC

Also Read - Driving License Latest Update: अब चुटकियों में बन जाएगा ड्राइविंग लाइसेंस, बदल गए हैं नियम, जानिए

मलैया ने कहा कि इस विधेयक को विधानसभा में पारित कर केंद्र सरकार को भेजा जाएगा. मृत्युदंड को अमल में लाने के लिए दुष्कर्म की धारा 376 में ए और एडी को जोड़ा जाएगा, जिसमें मृत्युदंड का प्रावधान होगा. Also Read - UPDATE NEWS: एमपी में शराब पीने से हुई मौतों का आंकड़ा 20 हुआ, सीएम ने तत्‍काल प्रभाव से कलेक्‍टर-एसपी को हटाया

मलैया ने यह भी बताया कि राज्य के साढ़े चार लाख कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ाने का फैसला भी हुआ है. अब राज्य के कर्मचारियों को चार के स्थान पर पांच प्रतिशत महंगाई भत्ता जुलाई 2017 से दिया जाएगा.