भोपाल: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर बेंगलुरू में बंधक बनाए गए 22 विधायकों को मुक्त कराने का अनुरोध किया है, साथ ही विधायकों को समुचित सुरक्षा दिलाने का भरोसा दिलाया है. मुख्यमंत्री कमल नाथ ने केंद्रीय गृहमंत्री शाह को शनिवार की शाम पत्र लिखा है. इसमें तीन मार्च से अब तक के सियासी घटनाक्रम का ब्यौरा दिया गया है. उन्होंने कहा है कि पहले कांग्रेस के तीन, बसपा व निर्दलीय विधायक को गुरुग्राम ले जाया गया, इन विधायकों को भाजपा नेता ले गए थे, उसके बाद 19 विधायकों को तीन चार्टर्ड विमान से बेंगलुरू ले जाया गया. विमानों की व्यवस्था भाजपा द्वारा की गई थी. Also Read - कोरोना मरीजों के लिए वैज्ञानिकों ने बनाई अनोखी डिवाइस, अब नहीं होगी सांस लेने में दिक्कत

मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में कहा है कि विधायकों को बेंगलुरू में बंदी बनाया गया है, एक विधायक के पिता बेटे से मिलने बेंगलुरू गए तो उन्हें अनुमति नहीं दी गई. वहीं दो मंत्री जो उनके साथ थे, उनसे अभद्रता कर पुलिस ने गिरफ्तार किया. इतना ही नहीं, इन विधायकों के इस्तीफे भाजपा नेता के माध्यम से भेजे गए. Also Read - शोएब अख्तर के भारत-पाक वनडे सीरीज के प्रस्ताव पर जहीर अब्बास ने तोड़ी चुप्पी, दिया बड़ा बयान

केंद्रीय गृहमंत्री को लिखे गए पत्र में मुख्यमंत्री कमल नाथ ने बताया है कि राज्यपाल ने उनसे कहा है कि जो विधायक विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष उपस्थित होंगे, उनकी सुरक्षा का भार सीआरपीएफ को सौंपा जाना चाहिए. Also Read - Lockdown In India: लॉकडाउन में भारतीयों को भा रहे ये Apps, घंटों इन पर लगे रहते हैं लोग

उन्होंने लिखा, “राज्य का मुख्यमंत्री होने के नाते आम नागरिक के साथ विधायकों की सुरक्षा सुनिश्चित करना मेरा उत्तरदायित्व है. 22 विधायकों को बेंगलुरू से रिहा करा दिया जाता है तो राज्य सरकार की ओर से उच्चतम सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी.”

मुख्यमंत्री ने शाह से अनुरोध किया है कि वह अपनी शक्तियों का प्रयोग करें, ताकि कांग्रेस के 22 विधायक जो बंदी बनाए गए हैं, वे सुरक्षित वापस पहुंच सकें और वे विधानसभा के सत्र में बिना भय और लालच के हिस्सा लेकर अपनी जिम्मेदारी निभा सकें.