नई दिल्लीः कांग्रेस पार्टी से 18 साल तक जुड़े रहने के बाद आपसी विचार न मिलने और राजनीतिक मतभेद के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 11 मार्च को भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है. ज्योतिरादित्य के इस कदम के बाद अब राज्य सरकार में बहुमत साबित करने का संकट मडरा रहा है. इस बीच मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ज्योतिरादित्य पर सोशल मीडिया पर खीझ निकाल रही है. एमपी कांग्रेस के ट्विटर हैंडिल से सिंधिया के भाजपा में शामिल होने को लेकर मजाक भी उड़ाया गया. Also Read - कोरोना वायरस ने बढ़ाई सरकार की चिंता, भोपाल, इंदौर और उज्जैन पूरी तरह सील

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने मजाक उड़ाते हुए ट्वीट किया कि सिंधिया महाराज हैं और पार्टी में उनके स्वागत को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने अभी तक एक भी ट्वीट नहीं किया. कांग्रेस ने कहा कि उन्हें भाजपा ज्वाइन किए अभी 24 घंटे भी नहीं बीते और अभी से अपमानित करना शुरू कर दिया. मध्य प्रदेश कांग्रेस ने लिखा कि सिंधिया वही महाराज हैं जिनके इतिहास का जिक्र खुद शिवराज सिंह चौहान करते हैं. Also Read - VIDEO: Coronavirus Lockdown के बीच DIG रात में साइकिल पर निकले

एक अन्य ट्वीट में वीडियो के साथ लिखा गया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के स्वागत में शिवराज सिंह और भाजपा नेता ऐसे ऐसे शब्द बोल रहे हैं जिन्हें हम लिखना भी पसंद नहीं करते. ट्वीट में लिखा गया कि उसूल और सम्मान की रक्षा के लिए कहां पहुंच गए हैं.

आज ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल पहुंच रहे हैं और उनके स्वागत में पूरे शहर में होर्डिंग्स लगाए गए हैं लेकिन कुछ अज्ञात लोगों ने इन पोस्टर्स पर कालिख पोत दी है. पोस्टर्स में कालिख सिर्फ ज्योतिरादित्य सिंधिया के चेहरे पर लगाई गई है जबकि दूसरे नेताओं को इससे अलग रखा गया है.

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2018 के नतीजों के बाद से ही कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच टकराव की स्थिति दिख रही थी लेकिन वो हमेंशा ही इसे नकारते रहे लेकिन सरकार बनने के 15 महीने बाद उन्होंने पार्टी से अलग होने का निर्णय लिया. भाजपा ज्वाइन करने के बाद उन्होंने इस बात को स्वीकार भी किया कि पिछले एक साल की भूमिका तैयार हो रही थी.