जबलपुर: मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले के चार आरोपियों को जबलपुर की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत के न्यायाधीश एसएस परमार ने चार-चार वर्ष कैद और जुर्माने की सजा सुनाई है. सीबीआई के लोक अभियोजक पवन पाठक ने मंगलवार को संवाददाताओं को बताया कि व्यापमं द्वारा आयोजित वन रक्षक भर्ती परीक्षा में हुए घोटाले के चार आरोपियों- दीपक जाटव, भागीरथ, दीवान जाटव व लक्ष्मी नारायण को चार-चार वर्ष कैद और चार-चार हजार का अर्थदंड विशेष न्यायाधीश एस.एस. परमार की अदालत ने लगाया है. Also Read - Coronavirus in Madhya Pradesh: अब मध्य प्रदेश में रिकॉर्ड तोड़ रहा कोरोना, एक दिन में सबसे ज्यादा 11,045 मामले और 60 लोगों की मौत

Also Read - Corona Guidelines for Navratri and Ramadan 2021: यूपी, बिहार से लेकर महाराष्ट्र तक, जानिए इन 6 राज्यों में नवरात्र और रमजान को लेकर क्या हैं नियम?

व्यापम घोटाला : सीबीआई के आरोप-पत्र में 490 नाम, सीएम शिवराज को मिली क्लीनचिट Also Read - Covid in MP Update: MP के सीएम ने की जनता से अपील, लॉकडाउन की बजाय, मास्‍क से चेहरा और पैर लॉक हो जाएं

बताया गया है कि मुरैना जिले के धनेला निवासी दीपक जाटव ने वन रक्षक पद के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था. इस आवेदन में शैक्षणिक योग्यता संबंधी दस्तावेज दीपक के थे, मगर फोटो व अंगूठा निशान लक्ष्मी नारायण का था. इस कूट रचना में भगीरथ व दीवान जाटव ने सहयोग किया था. तीन मार्च, 2013 की इस परीक्षा में दीपक का चयन भी हो गया. जब साक्षात्कार हुआ, तब यह मामला उजागर हुआ.

व्यापमं घोटाला : आरोपी जीतेंद्र यादव की मौत की प्रारंभिक जांच शुरू

बता दें कि व्यापमं घोटाला मध्य प्रदेश का सबसे चर्चित घोटाला था. इस घोटाले के बाद इससे जुड़े कई लोगों की मौत की घटनाएं सामने आई थी. बता दें कि व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले के आरोपी राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे शैलेष यादव की भी मौत हो गई थी. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने इस मौत को भी ‘अस्वाभाविक’ माना था.