नई दिल्ली: कोई प्रियंका गांधी को निशाना बनाकर विवादित बयान दे रहा है तो कोई पक्ष लेते हुए विरोधी नेताओं के लिए भी विवादित बयान दे रहा है. मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार में मंत्री सज्जन कुमार सिंह ने इसी क्रम को आगे बढ़ाया. प्रियंका गांधी पर बीजेपी नेताओं द्वारा निशाना साधने वालों पर सज्जन कुमार ने हमला करते हुए कहा कि ‘बीजेपी का दुर्भाग्य है कि उनकी पार्टी में खुरदुरे चेहरे हैं. ऐसे चेहरे जिन्हें लोग नापसंद करते हैं.

भाजपा के मंत्री ने प्रियंका गांधी को लेकर दिया विवादित बयान, कहा- सुंदरता से वोट नहीं मिलते

सज्जन कुमार यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि एक हेमा मालिनी हैं, उनसे जगह-जगह शास्त्रीय नृत्य कराते रहते हैं और वोट कमाने की कोशिश करते हैं. चिकने चेहरे उनके पास नहीं हैं. मेरा ये कहना है कि ईश्वर का प्रदत्त मानव होता है. अरे सराहना करो कि ईश्वर ने प्रियंका गांधी को इतना सुंदर बनाया है, जिसमें मानवता, स्नेह झलकता है. ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करके अपनी गरिमा कैलाश जी और बीजेपी गिरा रही है.

बीजेपी महासचिव ने फिल्मी सितारों से की प्रियंका की तुलना, बोले- ‘चॉकलेटी चेहरों’ से चुनाव लड़ना चाहती है कांग्रेस

बता दें कि सज्जन कुमार ने ये प्रतिक्रिया बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के उस बयान पर दी है, जिसमें उन्होंने प्रियंका गांधी की तुलना सलमान खान, करीना कपूर से करते हुए कहा था कि कांग्रेस चॉकलेटी चेहरे के बल पर चुनाव जीतना चाहती है. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस सलमान, करीना को चुनाव लड़ाने की मांग की जाती है तो कभी इसी तरह प्रियंका को राजनीति में लाया जाता है.

प्रियंका की कांग्रेस में एंट्री पर बीजेपी का हमला, कहा- फेल हुए राहुल ने बहन को बनाया बैशाखी

हालांकि आज कैलाश विजयवर्गीय ने अपने इस बयान खंडन भी किया है. बयान पर आई तीखी प्रतिक्रिया के बाद कहा कि ‘मैंने प्रियंका को चॉकलेटी चेहरा नहीं बताया था. मैंने अभिनेताओं के सन्दर्भ में ये बात कही थी.’ प्रियंका को लेकर विवादित बयानों का ये पहला मौका नहीं है, इससे पहले भाजपा के वरिष्ठ नेता और बिहार के मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा था ‘कांग्रेस की नवनियुक्त महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा “बेहद खूबसूरत” हैं और इसके अलावा उनमें कोई और गुण नहीं है. उनकी पार्टी को यह याद रखना चाहिए कि सुंदरता से वोट नहीं मिलते.’

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी के विवादित बोल, कहा-प्रियंका गांधी कब संतुलन खो बैठेगी, किसी को पता नहीं