नई दिल्लीः मध्य प्रदेश का सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. दस दिन का समय मिलने के बाद कांग्रेस सरकार राज्य में सत्ता बचाने की पुरजोर कोशिश में है. राज्य का सियासी ड्रामा अब बेंगलुरू जा पहुंचा है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह बुधवार सुबह कांग्रेस के बागी 21 विधायकों से मिलने बुधवार तड़के बेंगलुरू पहुंचे. पुलिस ने दिग्विजय सिंह को हिरासत में ले लिया है. Also Read - मध्य प्रदेश में बेकाबू रेत माफिया लॉकडाउन में भी कर रहे हैं खनन, ग्वालियर में सरकारी अमले पर किया हमला

बता दें कि कांग्रेस के बागी विधायक इस समय बेंगलुरू के रामदा होटल में ठहरे हुए हैं और जैसे ही दिग्विजय सिंह यहां पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें विधायकों से मिलने से रोक दिया. इसके बाद दिग्विज सिंह वहीं पर अपनी बात मनवाने के लिए धरने पर बैठ गए.

जब उनसे आने का कारण पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं राज्यसभा प्रत्याशी हूं और 26 मार्च को वोटिंग होनी है जिस बारे में मैं अपनी पार्टी के विधायकों से मिलने के लिए आया हूं लेकिन उन्हें यहां बंधक बनाकर रखा गया. वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि विधायक मुझसे बात करना चाहते हैं लेकिन उनके फोन भी उनके पास नहीं हैं. होटल पहुंचने से पहले दिग्विजय सिंह यहां पहुंचे तो कर्नाटक कांग्रेस के अध्‍यक्ष डीके शिवकुमार ने उनसे मुलाकात की. उसके बाद दिग्विजय सिंह कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ बागी विधायकों के होटल पहुंचे.

आपको बता दें कि सोमवार को मध्य प्रदेश विधानसभा शुरू होने के बाद राज्यपाल के अभिभाषण खत्म होते ही सभापति ने 26 तारीख तक के लिए विधानसभा स्थगित कर दिया था जिसके कारण कमलनाथ सरकार को दस दिन का जीवन दान मिल गया था. इसके विरोध में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की थी जिस पर आज सुनवाई होनी है.