चेन्नई: मद्रास उच्च न्यायालय (Madras High Court) ने कहा कि दो बालिग व्यक्तियों के ‘लिव इन रिलेशन’ में रहने को अपराध नहीं माना जाता है और ऐसे अविवाहित जोड़ों का होटल के किसी कमरे में एक-साथ रहने पर कोई आपराधिक मामला नहीं बनता. न्यायमूर्ति एम एस रमेश ने हाल के एक आदेश में कहा, ‘‘प्रत्यक्ष तौर पर कोई कानून या नियम नहीं है जो विपरीत लिंग के अविवाहित जोड़े को होटल के कमरे में मेहमान के तौर पर रहने से रोकता है.’’Also Read - Taarak Mehta फेम Aradhana Sharma से लोग पूछते थे क्या सच में शादी से पहले किया था सेक्स? घबरा जाती थीं एक्ट्रेस

Also Read - Taarak Mehta की बोल्ड बाला Aradhana Sharma ने किया था ब्रेकअप सेक्स, अब हॉट तस्वीरों में दिखाईं कातिलाना अदाएं

अक्षय कुमार का बड़ा बयान, कहा- देशभक्ति साबित करने के लिए दस्तावेज का जरूरी होना है दुखद Also Read - लिव-इन रिलेशन में रहने वाली दो लड़कियों की याचिका पर हाईकोर्ट की टिप्पणी, कहा- ये एक...

उन्होंने यह टिप्पणी प्राधिकारियों को कोयबंटूर स्थित किराए पर दिए जाने वाले अपार्टमेंट पर लगे सील को खोलने का निर्देश देते हुए की. उक्त अपार्टमेंट को पुलिस और राजस्व विभाग ने इस साल जून में इस शिकायत के बाद मारे गए छापे के बाद सील कर दिया था कि वहां अनैतिक गतिविधि होती हैं. वहां छापा मारने वाली टीम को वहां एक अविवाहित जोड़ा मिला था और कमरे में शराब की कुछ बोतलें मिली थीं.

न्यायाधीश ने कहा, अविवाहित जोड़े के रहने के आधार पर परिसर को सील करने जैसा कठोर कदम उठाना इसे रोकने वाले किसी कानून के अभाव में पूरी तरह से गैरकानूनी है.