तिरुवनंतपुरम: केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में एक निचली अदालत के सामने पेश होने वाले आरोपी के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद मजिस्ट्रेट, पुलिसकर्मी समेत अन्य करीब 100 लोगों को पृथक-वास में रहने को कहा गया है. Also Read - नहीं जाएगी रेलवे कर्मचारियों की नौकरी, लेकिन काम बदल सकता है: भारतीय रेल

आरोपी दो दिन पहले एक वाहन से अवैध शराब ले जा रहा था. उसके साथ दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था. आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद उसे पूजापुरा केंद्रीय कारागार में भेजा गया. रविवार को आरोपी के नमूने में संक्रमण की पुष्टि हुई, जिसके बाद उसे कोविड-19 अस्पताल भेज दिया गया. Also Read - इशांत शर्मा ने कहा- 2013 के बाद महेंद्र सिंह धोनी को अच्छे से समझ पाया था

सूत्रों ने बताया कि दो दिन पहले अवैध शराब ले जा रही एक कार एक पुलिसकर्मी को धक्का मारते हुए फरार हो गई थी लेकिन लोग वाहन को रोकने में सफल रहे और तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. ये तीनों शराब के नशे में थे. Also Read - देश में कोरोना के करीब 21 हजार नए केस, आंकड़ा 6.25 लाख के पार, 18 हजार से ज्‍यादा मौतें

पुलिस सूत्रों ने बताया कि नेदूमंगड अदालत के मजिस्ट्रेट के सामने आरोपी को पेश किया गया था. आरोपी के संक्रमित पाए जाने के बाद मजिस्ट्रेट, एक सर्किल इंस्पेक्टर समेत 34 पुलिसकर्मियों, जिस अस्पताल में आरोपी के लार के नमूने लिए गए थे, वहां के कुछ कर्मियों और पूजापुरा केंद्रीय कारागर के 12 अधिकारियों को पृथक वास में भेज दिया गया है.

ये सभी पुलिसकर्मी वेंजरामुडु थाने में उस समय ड्यूटी पर तैनात थे, जब आरोपी को गिरफ्तारी के बाद वहां लाया गया था.

इसी बीच, मलयालम फिल्मों के अभिनेता सूरज वेंजारामुडु और वामनापुरम के विधायक डी के मुरली भी खुद से पृथक-वास में चले गए हैं, क्योंकि इन्होंने एक ऐसे कार्यक्रम में हिस्सा लिया था, जिसमें सर्किल इंस्पेक्टर भी मौजूद थे.