मुंबई: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलकर सरकार बनाने की इच्छा जताई. हालांकि महाराष्ट्र में गैर-भाजपाई सरकार बनाने के शिवसेना के प्रयासों को ऐन मौके पर उस समय झटका लगा जब कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ और अधिक बातचीत करने की बात कही, वहीं राज्यपाल ने शिवसेना को और वक्त देने से मना कर दिया.

उन्होंने राज्यपाल से स्थाई सरकार गठन के लिए और समय मांगा. आदित्य ठाकरे ने राज्यपाल से बात करने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “हमने कहा कि हम सरकार बनाने के लिए तैयार हैं. हमने उनसे कम से कम 2 दिन का समय मांगा, लेकिन हमें समय नहीं दिया गया. हालांकि उन्होंने हमारे दावे (सरकार बनाने के लिए) को अस्वीकार नहीं किया लेकिन समय नहीं दिया. हम राज्य में सरकार बनाने के प्रयासों में लगे रहेंगे.”

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ने कहा, ‘‘हमने सरकार बनाने के लिए दावा पेश करने की अपनी इच्छा के बारे में महाराष्ट्र के राज्यपाल को सूचित किया. शिवसेना विधायक पहले ही लिखित में अपना समर्थन जता चुके हैं.’’ उन्होंने कहा कि दोनों दलों (राकांपा तथा कांग्रेस) को उनकी प्रक्रिया पूरी करने के लिए कुछ और दिन चाहिए.

कांग्रेस शिवसेना को समर्थन देगी या नहीं इस सवाल पर आदित्य ने कहा कि मैं अंदर की बातें अभी नहीं बता सकता हूं. बातचीत जारी है. आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमने राज्यपाल को बताया है कि शिवसेना सरकार बनाने में सक्षम है. हमने राज्यपाल से दो और दिन का समय देने को कहा, लेकिन उन्होंने समय देने से इंकार कर दिया. आदित्य ने कहा कि महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार बनाने की हमारी कोशिशें जारी हैं. हम ऐसी सरकार चाहते हैं जो झूठ न बोलती हो.

आदित्य ठाकरे ने कहा, “दोनों पार्टियां (कांग्रेस-एनसीपी) हमसे बात कर रही हैं, विधायक हमसे बात कर रहे हैं. जैसा कि बातचीत चल रही है, दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में यहां आना हमारा अधिकार था. हमने सरकार बनाने के लिए अपनी इच्छा व्यक्त की है, हमने अपनी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 48 घंटे का समय देने की मांग की.”

उन्होंने कहा कि वे जल्द राजभवन फिर आएंगे तथा सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे. आदित्य ने कहा, ‘‘महाराष्ट्र में सरकार बनाने की प्रक्रिया जारी रहेगी.’’ उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने शिवसेना को सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए केवल 24 घंटे का वक्त दिया. आदित्य ने कहा, ‘‘हम महाराष्ट्र में स्थिर सरकार देना चाहते हैं और हम अपने प्रयास जारी रखेंगे.’’

वहीं, महाराष्ट्र की स्थिति को लेकर सोनिया गांधी से मीटिंग के बाद कांग्रेस नेता बाहर आ गए हैं. मीटिंग के बाद मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने महाराष्ट्र के समीकरणों को लेकर चर्चा की है. मीटिंग के बाद अन्य कांग्रेस नेताओं ने कहा कि हम एनसीपी से सरकार बनाने को लेकर बात कर रहे हैं. कुल मिलाकर कांग्रेस ने अब तक तय नहीं किया है आगे क्या होगा. कांग्रेस का रुख सरकार को लेकर साफ़ नहीं हुआ है.