जलगांव: महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों (Maharashtra Assembly Election 2019) के लिये जलगांव में चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अनुच्छेद 370 (Article 370) के मुद्दे पर एक बार फिर विपक्ष को घेरा और चुनौती दी कि वे अपने घोषणा-पत्र में इसके रद्द प्रावधानों को बहाल करने की घोषणा करें.

हरियाणा: BJP का घोषणा पत्र जारी, अनुसूचित जाति को बिना गारंटी कर्ज देने, किसानों की आय दोगुनी करने का वादा

उन्होंने कहा कि ऐसा लग रहा है कि अनुच्छेद 370 पर विपक्ष पड़ोसी देश की जुबान बोल रहा है. मोदी ने कहा कि भारत के हित में लिए गए फैसलों का कुछ पार्टियों और नेताओं द्वारा विरोध किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है. सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के विशेष दर्जे को समाप्त करते हुए राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों (जम्मू कश्मीर और लद्दाख) में विभाजित कर दिया था. इस संदर्भ में मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख उनके लिए जमीन का टुकड़ा भर नहीं है बल्कि ये दोनों इस देश का ताज हैं.

पीएम मोदी की मां हीराबेन से मिले राष्ट्रपति कोविंद और उनकी पत्नी, लिया आशीर्वाद

भाजपा के लिये चुनाव प्रचार करते हुए उन्होंने राज्य के लोगों से मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस को फिर से जीत दिलाने में सहयोग देने की अपील की. मोदी ने कहा, “फड़णवीस को दूसरी बार मुख्यमंत्री बनाने के लिए लोगों का समर्थन मांगने महाराष्ट्र आया हूं.” महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा के लिए भाजपा शिवसेना के साथ गठबंधन में यह चुनाव लड़ रही है.