मुम्बई: भीमा कोरेगांव लड़ाई के स्मृति कार्यक्रम के खिलाफ हुई हिंसा के विरोध में विभिन्न दलित एवं अन्य संगठनों द्वारा बुलाया गया दिनभर का महाराष्ट्र बंद वापस ले लिया गया है. भारिप बहुजन महासंघ नेता और दलित आइकॉन बी आर अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने बुधवार को संवाददाताओं यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि राज्य के करीब 50 फीसदी लोगों ने इस बंद में हिस्सा लिया.

दिन के दौरान मुम्बई और अन्य स्थानों से सड़क जाम, आगजनी और पथराव की घटनाओं की खबरें आयीं. लेकिन अंबेडकर ने दावा किया कि बंद शांतिपूर्ण रहा.

भीमा कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ से जुड़े कार्यक्रम के बाद भड़की हिंसा के विरोध में आहूत महाराष्ट्र बंद ने गुरुवार को भी हिंसक रूप बरकरार रखा. इस वजह से शहर में रेल और सड़क यातायात प्रभावित हुए. प्रदर्शनकारियों ने सिटी बसों पर हमला किया, उपनगरीय लोकल सेवाओं को रोक दिया और शहर में विभिन्न स्थानों पर सड़कों को अवरूद्ध कर दिया. इससे मुंबई में जनजीवन प्रभावित हो गया.

यह भी पढ़ें: भीमा कोरेगांव: हिंसा से पहले हुए कार्यक्रम में शामिल थे मेवाणी और उमर खालिद

दलित समुदाय के लोगों ने उपनगरीय चेम्बूर, घाटकोपर, कामराज नगर, विक्रोली, दिंडोशी, कांदिवली, जोगेश्वरी, कालानगर और माहिम में प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. सैकड़ों प्रर्दशनकारियों ने वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे को अवरूद्ध करने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें वहां से हटा दिया.

शहर और उपनगरीय इलाकों में प्रदर्शनों को देखते हुए वाहनों की सुचारू आवाजाही को सुनिश्चित करने के लिए पुलिस ने यातायात मार्गों में फेरबदल किया था. अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शनकारी हार्बर लाइन के गोवंडी, मानखुर्द और कुर्ला स्टेशनों पर पटरियों पर आ गए, जिसके चलते पनवेल, बेलापुर और वाशी की ओर की उपनगरीय सेवाओं को कुछ देर के लिए रोकना पड़ा.

यह भी पढ़ें: भीमा-कोरेगांव हिंसा: जिग्नेश और उमर खालिद के खिलाफ FIR दर्ज, उकसाने का आरोप

सेंट्रल लाइन के ठाणे, भांडुप, कांजुर मार्ग, विक्रोली और घाटकोपर स्टेशनों पर भी इस तरह के प्रदर्शनों के कारण लोकल की सेवाएं प्रभावित हुईं. सैकड़ों लोगों को पटरियों पर चलते हुए देखा गया. पश्चिमी लाइन पर प्रदर्शनकारियों ने नालासोपारा स्टेशन पर सेवाओं को बाधित किया.

बृहन्मुंबई महानगरपालिका के अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने कालानगर इलाका (बांद्रा), धारावी, कामराज नगर, संतोष नगर, दिंडोशी और हनुमान नगर इलाकों में नगर परिवहन सेवा ‘बेस्ट’ की 13 बसों को नुकसान पहुंचाया.

मुंबई की जानी-मानी टिफिन सेवा प्रदाता ‘डब्बावाला’ ने अपनी सेवाएं नहीं दीं. मुंबई डब्बावाला संघ के प्रवक्ता ने बताया, ‘‘क्योंकि हमारे अधिकतर ग्राहकों को कार्यालय पहुंचने में दिक्कत हो सकती है, इसलिए हमने आज अपनी सेवाओं को निलंबित रखने का निर्णय किया है.’’

मुंबई पुलिस ने शहर में हिंसक प्रदर्शनों को लेकर बुधवार को नौ मामले दर्ज किये. पुलिस ने बताया कि कल से 100 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है. पुणे में पथराव की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर सामान्य तौर पर बंद शांतिपूर्ण रहा.

बता दें प्रकाश अंबेडकर ने महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया था. उन्होंने राज्य सरकार पर दो दिन पहले पुणे जिले के भीमा कोरेगांव गांव में हिंसा रोकने में ‘विफल’ रहने का आरोप लगाते हुए यह आह्वान किया था.