Maharashtra CM Oath Ceremony Live Updates: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) महाराष्ट्र के सीएम बन गए हैं. मुंबई के शिवाजी पार्क में उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस, एनसीपी, शिवसेना के दिग्गज नेताओं और जन सैलाब के सामने शपथ ली. उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के 18 वें सीएम हैं. उन्हें राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शपथ दिलाई. देश के सबसे अग्रणी उद्योगपति मुकेश अंबानी अपने पूरे परिवार के साथ शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद हैं. शिवसेना नेता सुभाष देसाई व एकनाथ शिंदे ने मंत्री पद की शपथ ली है. एनसीपी नेता जयंत राजाराम पाटिल ने भी शपथ ली. एनसीपी नेता छगन भुजबल को भी शपथ दिलाई गई. कांग्रेस ने नितिन राउत ने भी मंत्री पद की शपथ ली है. कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के दो दो नेताओं ने यानी कुल छह नेताओं ने आज मंत्री पद की शपथ ली है. शपथ ग्रहण के तुरंत बाद रात 8 बजे कैबिनेट की मीटिंग भी होनी है. उद्धव ठाकरे को पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बधाई दी है. पीएम मोदी ने कहा कि ‘मुझे यकीन है कि उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के बेहतर भविष्य के लिए काम करेंगे’

उद्धव के पिता दिवगंत बाला साहेब ठाकरे द्वारा 1966 में स्थापित क्षेत्रीय पार्टी शिवसेना ने पहली बार कांग्रेस और राकांपा से हाथ मिलाया है. मुख्यमंत्री बनने के बाद उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को छह महीने के भीतर विधानसभा या विधान परिषद का चुनाव लड़कर जीतना होगा. उद्धव ने आज तक कभी चुनाव नहीं लड़ा है और वह दोनों में से किसी सदन के सदस्य नहीं हैं.

उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे, ठाकरे परिवार के पहले ऐसे सदस्य हैं, जिन्होंने पहली बार पिछले महीने वर्ली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा और जीता था. राज्य में हुए विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को 105 और शिवसेना को 56 सीटें मिली थीं, जबकि कांग्रेस-राकांपा ने संयुक्त रूप से 288 सीटों वाली विधानसभा में 98 सीटें जीती थीं. 27 जुलाई 1960 को जन्में उद्धव ने वर्ष 2012 में अपने पिता के निधन के बाद पार्टी की कमान संभाली थी.

शिवसेना के मुखपत्र सामना का कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की. 1999 में महाराष्ट्र में शिवसेना के मुख्यमंत्री नारायण राणे की कार्यशैली और प्रशासनिक योग्यता की उन्होंने खुले तौर पर आलोचना की. इसके बाद हुए विवाद में राणे को इस्तीफा देना पड़ा. बाद में राणे को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.

उद्धव के नेतृत्व में शिवसेना को 2002 में बृहन्मुंबई महानगर पालिका चुनावों में भारी मतों से जीत मिली थी. वर्ष 2003 में उन्हें पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया. उद्धव और उनके चचरे भाई राज ठाकरे के बीच 2006 में मतभेद के बाद राज ने अलग होकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का गठन किया.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को शुभकामनाएं दीं और शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाने के लिए खेद प्रकट करते हुए उम्मीद जताई कि उनके नेतृत्व में बनने जा रही सरकार राज्य की जनता की आकांक्षाओं को पूरा करेगी. कांग्रेस प्रमुख ने उद्धव को पत्र लिखकर शुभकामनाएं दीं.

उद्धव के पुत्र आदित्य ठाकरे ने बुधवार की रात सोनिया और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलकर उन्हें शपथ ग्रहण के लिए आमंत्रित किया था. सोनिया ने शिवसेना प्रमुख को लिखे पत्र में कहा, ‘‘आदित्य कल मुझसे मिले थे और आपकी ओर से आमंत्रण दिया था. मुझे खेद है कि मैं इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पा रही हूं.’’ उन्होंने कहा कि जब देश के सामने भाजपा से अप्रत्याशित खतरे पैदा हुए हैं, उस समय शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस एक साथ आई हैं.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को शुभकमानाएं दीं और शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हो पाने के लिए खेद जताया. उद्धव को लिखे पत्र में गांधी ने यह भरोसा भी जताया कि शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस मिलकर एक स्थिर, धर्मनिरपेक्ष और जनहित वाली सरकार देंगी.