नई दिल्लीः अजित पवार का भाजपा को समर्थन देने के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि यह अजीत पवार का निजी फैसला है. इस राजनीतिक प्रकरण में सबसे आश्चर्य की बात यह रही कि अजित पवार के इस निर्णय के बारे में शरद पवार को कोई भी जानकारी नहीं थी. शरद पवार ने इस बारे में ट्वीट करके जानकारी दी. उन्होंने कहा कि हम अजित पवार के साथ नहीं है.

शरद पवार ने ट्वीट करके के कहा कि अजीत पवार के इस कदम के बारे में पार्टी को कोई जानकारी नहीं थी. उन्‍होंने दूसरे ट्वीट में कहा कि महाराष्ट्र सरकार को भाजपा बनाने के लिए अजित पवार के फैसले का समर्थन करना उनका व्यक्तिगत निर्णय है, न कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) का. हम यह कहना चाहते हैं कि हम हम उनके इस निर्णय का समर्थन नहीं करते हैं.

बता दें बीजेपी नेता गिरिश महाजन ने दावा किया है कि उन्हें सभी एनसीपी विधायकों का समर्थन प्राप्त है. हम अपना बहुमत साबित करेंगे, हमारे पास 170 विधायकों का समर्थन है. अजित पवार ने राज्यपाल को अपने विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी है. वह एनसीपी विधायक दल के नेता हैं, इसका अर्थ है कि एनसीपी के सभी विधायकों का हमें समर्थन प्राप्त है.


शरद पवार से पहले पार्टी के नेता नवाब मलिक ने भी बयान देकर कहा था कि पार्टी को इस बारे में किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं थी और अजीत पवार ने जो भी कदम उठाया वह अचानक लिया गया निर्णय था. पार्टी के कई नेताओं ने अजीत पवार पर बगावत करने का आरोप लगाया है. सूत्रों की माने तो अब शरद पवार ने मुंबई में एक अहम बैठक भी बुलाई है.