जालना (महाराष्ट्र): कोरोना वायरस (Corona Virus) देश के 12 राज्यों में फैल चुका है. अब तक 73 मामले सामने आ चुके हैं. चीन, अमेरिका सहित दुनिया के 90 देशों में कोरोना बड़े पैमाने पर फैल रहा है. साढ़े तीन हज़ार लोगों की मौत हो चुकी है. दुनिया भर में एक लाख से अधिक लोग भर्ती हैं. काफी कोशिश की जा रही है, लेकिन दुनिया का कोई भी डॉक्टर और विशेषज्ञ इसकी दवा या वैक्सीन (Corona Virus Vaccine) नहीं खोज सका है. Also Read - बॉलीवुड प्रोड्यूसर करीम मोरानी को हुआ कोरोना, अस्‍पताल में भर्ती

ALERT IN INDIA: मास्‍क लगाकर नहीं बच सकते, ऐसे महामारी की तरह फैलता है CORONAVIRUS, यूं करें अपना-परिवार का बचाव Also Read - वुहान में भारतीयों ने कहा- कोरोना से निपटने को सख्त लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग ही एकमात्र रास्ता, वरना...

इसी बीच महाराष्ट्र (Maharashtra) के जलाना ज़िले में तीन महिलाओं ने लोगों को कोरोना वायरस (Corona Virus) की दवा कहकर टीका भी लगाना शुरू कर दिया. तीन महिलाओं में से एक महिला ने खुद को डॉक्टर बताया और दो ने खुद को इनका सहायक. ये महिलाएं जलाना के अम्बद तहसील के पीपलगांव पहुंची और पहले से ही डरे सहमे लोगों को टीका लगाने लगीं. बताते हैं कि इसकी फीस भी वसूली गई. Also Read - कोरोना वायरस: मध्य प्रदेश में 24 घंटे में 72 नए मामले मिले, संक्रमितों की संख्या 385 हुई, अब तक 29 की मौत

Coronavirus से डरे नहीं, ऑफिस में ऐसे रहें Safe, कैसा मास्‍क सबसे बेहतर, क्‍या करें क्‍या नहीं: डॉ: मीनाक्षी जैन

भनक लगने पर पुलिस ने इन्हें पकड़ लिया. पुलिस ने बताया कि बीड की रहने वाली राधा रामनथ सामसे, सीमा कृष्णा अंढाले और संगीता राजेन्द्र अवहाड को बधुवार को गिरफ्तार किया गया. वे खुद को डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी बताती थीं. तीनों अम्बद तहसील के पिपलगांव के लोगों से मिली और उन्हें कोरोना वायरस से बचाने वाला नकली टीका लगाया. पुलिस के अनुसार, कुछ गांव वालों ने ग्रामीण स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर महादेव मुंडे को इसकी जानकारी दी, जिसके बाद शिकायत दर्ज की गई. उन्होंने बताया कि आरोपियों के पास बरामद किए गए नकली टीके और बोतलें राज्य स्वास्थ्य विभाग के पास भेज दिए गए हैं. तीनों के खिलाफ धोखाधड़ी का एक मामला दर्ज किया गया है.

देश के 12 राज्यों में कोरोना की दस्तक, अब तक 73 लोग संक्रमित, विदेश मंत्री बोले- ये चिंता का विषय

बता दें कि कई और इलाकों से ख़बरें हैं कि कोरोना से बचने वाली दवाएं बेची जा रही हैं. जबकि अब तक कोरोना से बचने की कोई दवा या टीका बाज़ार में नहीं आया है. इसका टीका तक बनने में कम से कम एक साल का समय लग सकता है. ऐसे में अगर कोई ऐसा कर रहा है तो उस पर यकीन न करें. और प्रशासन को सूचना दें. कोरोना से बचाव के तरीके अपनाएं, इस वायरस से बचने का यही सबसे पहला और बड़ा उपाय है.

Coronavirus Alert: सतह, सांस या सेक्‍स से, कैसे फैलता है कोरोनावायरस? जानें आपके 10 सवालों का जवाब

Coronavirus Alert: कोरोनावायरस से पीड़ित होने पर शरीर में क्‍या बदलाव होते हैं? चीन में जो मर गए उनके लक्षण जानें