नई दिल्लीः महाराष्ट्र की गठबंधन वाली सरकार को अभी बने हुए कुछ ही दिन हुए हैं और सरकार में अभी से तकरार दिखने लगी है. महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी के सरकार में शिवसेना कोटे से राज्यमंत्री अब्दुल सत्तार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. पिछले कई दिनों से महाराष्ट्र की राजनीति में विभागों के बटवारे को लेकर खीचतान चल रही थी. फिलहाल अभी यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हुआ है कि अब्दुल सत्तार ने इस्तीफा क्यूं दिया है. Also Read - Maharashtra Lockdown Latest Update: शिवसेना ने लॉकडाउन को आखिरी विकल्प के रूप में अपनाने के PM मोदी के सुझाव पर उठाये सवाल, दिया यह बयान...

महाराष्ट्र सरकार ने अभी 30 दिसंबर 2019 को ही अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया था और इसी दिन अब्दुल सत्तार को राज्यमंत्री का पदभार दिया गया था. राज्य सरकार ने कुल 36 मंत्रियों को गोपनीयता की शपथ दिलाई थी. अब्दुल सत्तार 2019 में शिवसेना ज्वाइन करने से पहले कांग्रेस पार्टी में थे और वे 2014 में मंत्री पद पर भी रह चुके हैं. माना जा रहा है कि कमजोर पद मिलने से सत्तार लगातार नाराज थे और इसी वजह से उन्होंने अपना इस्तीफा दिया है. Also Read - Maharashtra New Strict Guidelines: महाराष्ट्र में संपूर्ण लॉकडाउन नहीं, लेकिन आज रात से कड़ी पाबंदियां, जानें क्या हैं नए प्रतिबंध

उधर अब्दुल स्तार और विभागों को लेकर सरकार में मची खीचतान पर भाजपा ने भी निशाना साधा है. पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवींस ने इस मामले में तंज कसते हुए कहा कि यह तो होना ही और राज्यमंत्री के इस्तीफा देने से सरकार का अंत शुरू हो गया है. बता दें कि अब्दुल ने अपना इस्तीफा सीएम देवेंद्र फडणवींस को नहीं दिया है बल्कि उन्होंने पार्टी के एक नेता को अपना इस्तीफा सौपा है.