महाराष्ट्र सदन घोटाले मामले में फंसे एनसीपी के कद्दावर नेता छगन भुजबल से मुंबई के प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया है। ANI की खबर के अनुसार आज छगन भुजबल को पूछताछ के बाद अपने हिरासत में ले लिया। छगन भुजबल के गिरफ्तारी के बाद के बाद ईडी के दफ्तर की सुरक्षा को और भी बढ़ा दिया गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने पीएमएलए के तहत एक मामला दर्ज किया है जिसमें भुजबल तथा उनके कुछ सहयोगियों के खिलाफ जांच की जा रही है। इस मामले में पूर्व मंत्री के भतीजे समीर को पिछले माह गिरफ्तार किया जा चुका है। Also Read - गुजरात रास चुनाव: राकांपा विधायक ने भाजपा को समर्थन देने का ऐलान किया

एनसीपी के नेता छगन भुजबल पर आरोप है की उनके रिश्तेदारों को इसके लिए सब कॉन्ट्रेक्ट दिए गए जिससे उन्हें फायदा हुआ। यह पूरा घपला 10 हजार करोड का है। आज सुबह से ही एनसीपी के बड़े नेता और कार्यककर्ता ईडी के दफ्तर के बाहर खड़े थे। इस गिरफ्तारी के बाद से पुलिस की तैनाती को और भी बढ़ा दिया गया है। भुजबल पर यह आरोप भी है की उनके कार्यकाल के दौरान बिल्डर और भुजबल के रिश्तेदारों के फायदे के लिए टेंडर तक नही निकला गया था। यह भी पढ़ें : एनसीपी के सीनियर नेता छगन भुजबल के भतीजे समीर को प्रवर्तन निदेशालय ने किया अरेस्ट Also Read - राज्यसभा चुनाव: शिवेसना से प्र‍ियंका चतुर्वेदी, कांग्रेस से राजीव सातव और NCP से फौजिया ने नामांकन दाखिल किया


आप को बता दें की छगन भुजबल, पंकज, समीर और अन्य लोगों की संपत्तियों और कार्यालयों सहित नौ परिसरों में प्रवर्तन निदेशालय ने दो बार छापेमारी भी की थी। जिसके बाद एनसीपी ने इसे बदले की भावना से हुई कारवाई का नाम दिया था। फिलहाल सुरक्षा के लिहाज से पुलिस ने अपना बंदोबस्त बड़ा दिया है।