अहमदाबाद। साबरमती आश्रम के आज 100 साल पूरे हो चुके हैं. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महात्मा गांधी इसी आश्रम में रहते थें. अहमदाबाद में साबरमती नदी के किनारे बने इस आश्रम में महात्मा गांधी और उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी यहां 1917 से 1930 तक रहें.

शुरूआती दिनों में यह आश्रम काफी छोटा था. साल 1917 में यहां गांधी जी को मिलाकर कुल 40 लोग रहा करते थे. यह आश्रम गांधी जी के सत्य, अहिंसा, आत्म संयम, विराग और समानता के सिद्धांतों पर आधारित महान प्रयोग का एक बेमिसाल नमुना है.

यह आश्रम साबरमती नदी के किनारे पर बनाया गया है. दक्षिण अफ्रीका से लौटने के बाद महात्मा गांधी ने 25 मई 1915 “सत्याग्रह आश्रम” की स्थापना की. आश्रम के वर्तमान स्थान के संबंध में इतिहासकारों का मत है कि पौराणिक दधीचि ऋषि का आश्रम भी यहीं पर था।