नई दिल्ली. उत्तराखंड विविधताओं को समेटे हुए हिमालय की गोद में बसा हुआ राज्य है. यहां की प्राकृतिक सुंदरता बरबस ही सैलानियों का मन मोह लेती है. वैसे तो गर्मी के दिनों में छुट्टियां बिताने के लिए मशहूर उत्तराखंड के कई शहरों को आप पहले से ही जानते होंगे, लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं मझकाली के बारे में, जो हिमालय की गोद में बसा छोटा सा कस्बा है. देवी काली के मंदिर के लिए प्रसिद्ध मझकाली में पहुंचकर आप जैसे हिमालय में पहुंच जाते हैं. मझकाली में रहने के लिए आपको रिसॉर्ट मिल जाएंगे, जहां आप कुछ दिनों तक रुककर पहाड़ की खूबसूरती का आनंद उठा सकते हैं. मझकाली में होटल कारोबार से जुड़े ‘सार होलिडेज’ के रमेश यादव बताते हैं कि मझकाली उन सैलानियों के लिए स्वर्ग सरीखा है जो पर्यटन के दौरान ट्रैकिंग के रोमांच को करीब से अहसास करना चाहते हैं. मझकाली में आप जहां भी रहें, हिमालय आपके इर्द-गिर्द ही रहेगा. जिस तरफ नजर उठाकर देखेंगे, बर्फीली पहाड़ी चोटियां आपको अपने करीब बुलाती नजर आएंगी. इन तस्वीरों से आप मझकाली की सुंदरता को महसूस कर सकते हैं.

रानीखेत से अल्मोड़ा के रूट में हैं मझकाली

रानीखेत पहुंचने वाले पर्यटकों के लिए मझकाली प्रमुख आकर्षण है. रानीखेत से अल्मोड़ा के रूट में यह स्थान पड़ता है. दूरी के लिहाज से यह रानीखेत से महज 10 से 12 किलोमीटर दूर है. खुद ड्राइव करने वाले पर्यटकों के लिए तो यहां तक जाना और भी आसान है.

रानीखेत पहुंचने वाले पर्यटकों के लिए मझकाली प्रमुख आकर्षण है. रानीखेत से अल्मोड़ा के रूट में यह स्थान पड़ता है. दूरी के लिहाज से यह रानीखेत से महज 10 से 12 किलोमीटर दूर है. खुद ड्राइव करने वाले पर्यटकों के लिए तो यहां तक जाना और भी आसान है.

फॉरेस्ट नर्सरी को देखना भी बेहतरीन अनुभव

मझकाली में फॉरेस्ट नर्सरी भी है, जहां की जैव विविधताएं आपको प्रकृति के और करीब ले जाएंगी. वहीं यहां स्थित गोल्फ कोर्स भी शानदार पिकनिक स्पॉट है, जहां पर छुट्टियां बिताने के लिए दूर-दूर से पर्यटक पहुंचते हैं. यहां का नैसर्गिक वातावरण आपको न सिर्फ सहज बनाएगा, बल्कि प्रकृति को करीब से जानने का अहसास भी कराएगा.

मझकाली में फॉरेस्ट नर्सरी भी है, जहां की जैव विविधताएं आपको प्रकृति के और करीब ले जाएंगी. वहीं यहां स्थित गोल्फ कोर्स भी शानदार पिकनिक स्पॉट है, जहां पर छुट्टियां बिताने के लिए दूर-दूर से पर्यटक पहुंचते हैं. यहां का नैसर्गिक वातावरण आपको न सिर्फ सहज बनाएगा, बल्कि प्रकृति को करीब से जानने का अहसास भी कराएगा.

जीप के सफर का रोमांच उठा सकते हैं

रानीखेत से मझकाली पहुंचने के लिए आपको भाड़े की टैक्सियां मिलेंगी. आप कुछ पैसे देकर टैक्सी या फिर जीप भी हायर कर सकते हैं. पहाड़ों की चोटियां देखते हुए सर्पीले रास्तों का यह सफर आपके पर्यटन के अनुभव को और बढ़ा देगा. यहां ठहरने के लिए कॉटेज बने हैं, जो आपके सैलानी मन को बहुत भायेंगे.

रानीखेत से मझकाली पहुंचने के लिए आपको भाड़े की टैक्सियां मिलेंगी. आप कुछ पैसे देकर टैक्सी या फिर जीप भी हायर कर सकते हैं. पहाड़ों की चोटियां देखते हुए सर्पीले रास्तों का यह सफर आपके पर्यटन के अनुभव को और बढ़ा देगा. यहां ठहरने के लिए कॉटेज बने हैं, जो आपके सैलानी मन को बहुत भायेंगे.

कैसे पहुंचें मझकाली

मझकाली जाने के लिए आपको पहले उत्तराखंड पहुंचना होगा, जिसके लिए दिल्ली से बस, ट्रेन और फ्लाइट तीनों ही सुविधाएं मौजूद हैं. मझकाली जाने के लिए आपको काठगोदाम जाना होगा, जहां से भोवाली, रानीखेत होते हुए आप यहां तक पहुंच सकते हैं. वैसे देहरादून जाकर भी आप काठगोदाम पहुंच सकते हैं.

मझकाली जाने के लिए आपको पहले उत्तराखंड पहुंचना होगा, जिसके लिए दिल्ली से बस, ट्रेन और फ्लाइट तीनों ही सुविधाएं मौजूद हैं. मझकाली जाने के लिए आपको काठगोदाम जाना होगा, जहां से भोवाली, रानीखेत होते हुए आप यहां तक पहुंच सकते हैं. वैसे देहरादून जाकर भी आप काठगोदाम पहुंच सकते हैं.

यह भी पढ़ें – त्रिपुरा के इस जंगल में है एक करोड़ से एक कम देवताओं की मूर्तियां