नई दिल्ली: एक फौजी के अंदर कितना साहस और धैर्य हो सकता है इसका अंदाजा मेजर कुमुद डोगरा को देखकर ही लगाया जा सकता है जब वे अपने फौजी पति को अंतिम विदाई देने अपनी पांच दिन की बेटी के साथ पूरे सैन्य गणवेश में पहुंची. भारतीय सेना में मेजर कुमुद के पति और वायुसेना में विंग कमांडर दुष्यंत वत्स की 15 फरवरी को एक विमान दुर्घटना में मौत हो गई थी. इस दुख की घड़ी में भी कुमुद ने अपने कलेजे पर पत्थर रखकर एक पत्नी और फौजी होने का कर्तव्य निभाया और पूरे राजकीय सम्मान के साथ अपने पति को अलविदा किया.

एक तरफ भारत ने अपना एक जाबांज जवान खोया तो वहीं दूसरी तरफ  महज 5 दिन की बेटी के सिर से उसके पिता का साया उठ गया. उस नन्ही बच्ची जिसकी अभी आंखें भी ठीक से नहीं खुलीं थी अब ताउम्र अपने पिता के प्यार से महरूम रहेगी.

विंग कमांडर की अंतिम विदाई की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, जिसमें कुमुद डोगरा अपनी नवजात बेटी को गोद में लिए हुए हैं और सेना की वर्दी में हैं. जिसने भी ये तस्वीरें देखी उसके बदन में सिहरन दौड़ गई. हर कोई उनकी हिम्मत को सलाम कर रहा है.

फेसबुक पर इंडियन डिफेंस के पेज पर भी मेजर कुमुद के इस जज्बे की सराहना की गई है. पेज पर कुमद की उनकी नवजात बेटी के साथ, उनके पति और विदाई समारोह की तस्वीरें भी शेयर की गई हैं.

बता दें 15 फरवरी को असम के मजोली में उनका माइक्रोलाइट हेलीकॉप्‍टर क्रैश हो गया था, जिसमें 2 पायलट की मौत हो गई थी. इसमें विंग कमांडर डी वत्स भी शामिल थे. रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया था कि हल्के वजन का वायुयान जोरहट एयरबेस से उड़ान भरने के तुरंत बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. वायुयान दोपहर में नियमित उड़ान पर निकला था. विमान में कुछ खराबी के कारण विंग कमांडर जय पॉल जेम्स और विंग कमांडर डी. वत्स ने जैसे ही विमान की आपात लैंडिंग कराने की कोशिश की तभी वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया.