बॉलीवुड के साथ-साथ दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार कमल हासन ने कश्मीर को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद उन्होंने चेन्नई में रविवार को कहा कि भारत की सरकार आखिर क्यों नहीं कश्मीर में जनमत संग्रह करवा रही है. उसको किस बात का डर सता रहा है. Also Read - कश्मीर में भारत 22 अक्टूबर को मनाएगा 'काला दिवस', 1947 में पाकिस्तान ने घाटी में कराई थी हिंसा

उन्होंने आगे कहा कि जवान क्यों मारे जा रहे हैं? आखिर क्यों हमारे जवानों को अपनी जान देने की जरूरत है? उन्होंने कहा कि अगर भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के राजनेता ठीक तरीके से व्यवहार करते तो किसी भी जवान को अपनी जान गंवाने की जरूरत नहीं होती. लाइन ऑफ कंट्रोल अंडर कंट्रोल हो जाता. पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस घटना को लेकर देशभर में रोष का माहौल है. Also Read - कश्मीर और लद्दाख में बनेंगी 100 किलोमीटर लंबी 10 सुरंगें, सेना का काम होगा आसान

गौरतलब है कि 1947 में देश के बंटवारे और उसके बाद जम्मू-कश्मीर के भारत में विलय के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर को लेकर विवाद रहा है. 1948 में कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से थोपे गए युद्ध के दौरान भारत ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर में जनमत संग्रह कराने की बात कही थी. हालांकि इसके लिए यह अनिवार्य था कि पाकिस्तान अपने कब्जे वाले कश्मीर को खाली करे.