नई दिल्ली: मालेगांव ब्लास्ट में दोषी साध्वी प्रज्ञा, लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित, रमेश उपाध्याय और अजय रहिरकर को मकोका और UAPA से राहत मिल गई है. लेकिन फिलहाल इन लोगों पर आईपीसी की धारा 120 बी, 302, 307, 304, 326, 427, और 152 A के तहत मुकदमा चलाया जाएगा.

गुरुवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी की विशेष अदालत ने कहा कि 2008 के मालेगांव ब्लास्ट में आरोपी ले. कर्नल प्रसाद पुरोहित साध्वी प्रज्ञा खिलाफ मकोका, आर्म्स ऐक्ट और गैरकानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम (यूएपीए) की धारा 17, 20 और 13 के तहत मामला नहीं चलाया जाएगा. जनवरी में एनआईए की तरफ से कोर्ट में पेश एडिशनल सोलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने कहा था कि एजेंसी पहले ही यह बात कह चुकी है कि इस केस में मकोका लागू नहीं होता है

यह भी पढ़ें: अजमेर ब्लास्ट मामले में साध्वी प्रज्ञा और इंद्रेश कुमार को एनआईए ने दी क्लीन चिट, कोर्ट 17 को करेगी सुनवाई

फिलहाल सभी आरोपी जमानत पर रिहा हैं और यह जारी रहेगी. बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस साल के शुरुआत में प्रज्ञा सिंह ठाकुर को जमानत दी थी जबकि कर्नल पुरोहित अगस्त में जमानत पर रिहा हुए थे. अब एनआईए की 15 जनवरी विशेष अदालत में इस मामले की सुनवाई करेगा.

बता दें 29 सितंबर 2008 को मालेगांव में एक मोटरसाइकिल में बम लगाकर विस्फोट किया गया था, जिसमें आठ लोगों की मौत हुई थी और करीब 80 लोग घायल हो गए थे. इस मामले में साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित को 2008 में ही गिरफ्तार किया गया था. बताया गया था जिस हीरो होंडा मोटरसाइकिल में बम लगाया गया था वह साध्वी प्रज्ञा की थी.