मुंबई: सोशल मीडिया में चल रहे अभियान में सीनियर पत्रकार विनोद दुआ पर लगे यौन शोषण के आरोपों पर उनकी बेटी एवं हास्य अभिनेत्री मल्लिका दुआ मी टू आंदोलन के साथ खड़ी नजर आईं और उन्होंने साफ-साफ कहा कि वह अपने पिता को यह लड़ाई लड़ने देंगी. मल्लिका ने कहा, ”मैं आंदोलन के साथ हूं और आवाज उठाने वालों का समर्थन करती हूं, लेकिन इस मामले में मेरा नाम लपेटना सही नहीं है.” उन्‍होंने ने कहा, यह उनकी लड़ाई नहीं है. अपने मामले में वह अपने हिसाब से निपटेंगी. Also Read - भतीजी के यौन उत्पीड़न के आरोपों पर नवाजुद्दीन सिद्दीकी के भाई शमास ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'सच जल्द आएगा सामने'

Also Read - वर्क फ्रॉम होम: 'बॉस' रात में करते हैं VIDEO CALL, कम कपड़ों में करते हैं मीटिंग, परेशान हैं महिलाएं

#MeToo: यौन शोषण के आरोपों पर अदालत पहुंचे एमजे अकबर, प्रिया रमानी के खिलाफ शिकायत Also Read - सुभाष घई पर सेक्शुअल हैरेसमेंट का आरोप लगाने के बाद चर्चा में आई थीं यह TV एक्ट्रेस 

डॉक्यूमेंटरी फिल्म बनाने वाली निष्ठा जैन ने विनोद दुआ पर आरोप लगाया है कि करीब तीन दशक पहले पत्रकार ने उनका पीछा किया और उन्हें प्रताड़ित किया. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए रविवार को मल्लिका ने कहा, ”आपने जो भी कहा है, यदि मेरे पिता उसके दोषी हैं तो यह स्वीकार्य नहीं है, यह बहुत सदमा पहुंचाने वाला और दुखद है.”

कॉमेडी रियल्टी टीवी शो में मल्लिका पर अक्षय कुमार की अभद्र टिप्पणी पर विनोद दुआ की प्रतिक्रिया का हवाला देते हुए जैन ने शनिवार को फेसबुक पर लंबा-चौड़ा पोस्ट डाला. उन्होंने विनोद दुआ पर वर्षों पहले यौन उत्पीड़न जैसा आचरण करने का आरोप लगाया. उन्होंने अपने आरोपों में मल्लिका का भी नाम लिया है.

इस पर मल्लिका ने इंस्टाग्राम पर बयान जारी कर कहा है कि जैन द्वारा उन्हें इस विवाद में शामिल करना सही नहीं है. उन्होंने कहा, ”मैं आंदोलन के साथ हूं और आवाज उठाने वालों का समर्थन करती हूं, लेकिन इस मामले में मेरा नाम लपेटना सही नहीं है.” मल्लिका ने कहा, यह उनकी लड़ाई नहीं है. अपने मामले में वह अपने हिसाब से निपटेंगी.

कॉमेडियन मल्लिका ने कहा, ”यह मेरी लड़ाई नहीं है. यह मेरी जिम्मेदारी या मेरी शर्म या मेरा बोझ नहीं है. मैं इससे अपने हिसाब से अपने वक्त में निपटूंगी. आप अपने बयान पर महिलाओं को बयान देने के लिए मजबूर करना बंद करें.”

आरोपों में मल्लिका का नाम लेने के लिए जैन ने माफी मांगते हुए फेसबुक पर लिखा है ”मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था. इस बारे में ध्यान दिलाने के लिए दोस्तों, समर्थकों का शुक्रिया. अपने पिता के कृत्यों के लिए वह जिम्मेदार नहीं है. उम्मीद करती हूं कि वह मेरी बात पर भरोसा करेगी और मेरे एवं उन महिलाओं के प्रति सहानुभूति रखेगी, जिनका उसने (दुआ ने) उत्पीड़न किया है.”

इस बीच, दुआ के वर्तमान नियोक्ता ‘द वायर’ ने रविवार को एक बयान में कहा ”हमने निष्ठा जैन का फेसबुक पोस्ट देखा है जिसमें द वायर के कंसल्टिंग एडिटर विनोद दुआ पर 1989 में यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया गया है.”

बयान में कहा गया है, ”घटना 26 साल पहले की है जब दुआ द वायर से नहीं जुड़े थे. लेकिन हमारी आईसीसी ने जैन के आरोपों पर ध्यान दिया है. हमें इस मामले में आईसीसी की राय का इंतजार है.”