नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने केंद्र सरकार के सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने के फैसले को ‘अवैध’ और सीबीआई अधिनियम का उल्लंघन करार देते हुए इसके खिलाफ शनिवार को उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की है. उनका कहना है कि केन्द्रीय सतर्कता आयोग के पास सीबीआई निदेशक के खिलाफ कार्रवाई का कोई अधिकार ही नहीं है.

छुट्टी पर भेजे जाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा

लोकसभा में वरिष्ठ नेता कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बताया कि उन्होंने अपनी याचिका में कहा कि, अधिनियम के मुताबिक सीबीआई निदेशक की नियुक्ति या उसे हटाने के बारे में नेता प्रतिपक्ष, प्रधानमंत्री और प्रधान न्यायाधीश की तीन सदस्यीय समिति को ही अधिकार है, ऐसे में वर्तमान केंद्र सरकार ने नियमों का उल्लंघन किया है जो सरासर अवैध है.

उन्होंने यह भी कहा कि केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के पास सीबीआई निदेशक के खिलाफ कार्रवाई का कोई अधिकार नहीं है. मल्लिकार्जुन खड़गे ने इस संबंध में सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर करने की पुष्टि करते हुए कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वत: संज्ञान लेते हुए सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने की कार्रवाई अवैध है और यह सीबीआई अधिनियम का उल्लंघन भी है.’’ पार्टी सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस ने खड़गे से कहा था कि वह इस संबंध में याचिका दायर करें. खड़गे सीबीआई निदेशक की नियुक्ति करने वाली समिति के सदस्य भी हैं. (इनपुट एजेंसी)

CBI निदेशक को पद से ‘हटाए’ जाने पर विपक्ष ने उठाए सवाल, कहा- ‘गुजरात मॉडल’ का दिखा असली रंग