नई दिल्ली: चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस प्रमुख से पूछताछ करने की सीबीआई की कोशिश के खिलाफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का धरना तीसरे दिन मंगलवार को भी जारी है. बनर्जी रविवार रात से मेट्रो सिनेमा के सामने ‘भारत बचाओ’ धरने पर बैठीं हैं. तृणमूल कांग्रेस प्रमुख इस बात पर जोर दे रही हैं कि सीबीआई के इस कदम से “संविधान और संघवाद” की भावना प्रभावित हुई है. सूत्रों ने बताया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू मंगलवार को धरना स्थल पर पहुंच सकते हैं.

द्रमुक नेता कनिमोई और राजद नेता तेजस्वी यादव आदि अन्य नेताओं ने सोमवार को यहां पहुंच बनर्जी के धरने को अपना समर्थन दिया था. धरना स्थल को ‘सत्याग्रह मंच’ का नाम दिया गया है और इसे राजनीतिक रंग से दूर रखा गया है. मुख्यमंत्री यहां मौजूद होने के बावजूद अपनी सभी आधिकारिक जिम्मेदारियां निभा रही हैं और मंच से ही सारे दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर रही हैं. बनर्जी से जुडे़ सूत्रों ने बताया कि प्रदर्शन के खत्म होने तक वह धरना स्थल से अपनी आधिकारिक जिम्मेदारियां निभाती रहेंगी. उन्होंने कहा कि बोर्ड परीक्षाओं के मद्देनजर धरना शुक्रवार तक जारी रहेगा.

बनर्जी ने कहा था, ‘मैं देश के सुरक्षित होने तक धरना जारी रखूंगी. अगर आप देश को बचाना चाहते हैं तो आपको मोदी को हटाना (सत्ता से बाहर करना) होगा. तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने धरने को ‘गैर-राजनीतिक’ बताते हुए भाजपा विरोधी हर पार्टी के समर्थन का स्वागत किया है. कवियों, गायकों सहित कई मशहूर शख्सियतों ने बनर्जी को अपना समर्थन दिया है.अभिनेत्री इंद्राणी हलदर, वरिष्ठ मंत्री अरूप विश्वास और इंद्रनील सेन मंगलवार सुबह धरना स्थल पर पहुंचे. इस बीच, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी ने राज्य की मौजूदा हालात पर एक रिपोर्ट केन्द्र को भेजी है.